Breaking Newsराष्ट्रीय

दांव पर लगी है 20 लाख लोगों की रोजी-रोटी

अभी नहीं, तो कभी नहीं खुलेगा आपका नजदीकी सिनेमाघर

image_pdf

गाजियाबाद। अनलॉक 4 में भी सिनेमाघर नहीं खुलने से देशभर के सिनेमाघर मालिक काफी निराश हैं। उनका मानना है कि 6 महीने से ज्यादा समय तक रब बंद रहने के बाद काफी संख्या में सिनेमाघर दोबारा नहीं खुल पाएंगे। साथ ही सिनेमा इंडस्ट्री से जुड़े 20 लाख लोगों की रोजी रोटी दांव पर लग गई है।
बीते 13 मार्च से देशभर में बंद सिनेमाघरों के अभी 30 सितंबर तक खुलने की कोई उम्मीद नहीं है। ऐसे में सिनेमाघरों के लाकडाउन को 6 महीने से भी ज्यादा समय होने के चलते फिल्म निर्माताओं ने अपनी फिल्मों को सीधे तीसरे पर्दे पर अर्थात यूट्यूब पर रिलीज करने का सिलसिला शुरू कर दिया है। माना जा रहा है कि सिनेमा बंदी का समय बढ़ने पर बची हुई कुछ बड़े बजट की फिल्में भी तीसरे पर्दे का रुख कर सकती हैं। इस हालत में सिनेमाघर इंडस्ट्री से जुड़े लोगों पर रोजगार के संकट मंडरा रहे हैं। जानकारों का मानना है कि 6 माह तक सिनेमाघर बंद रहने के कारण सिनेमा घर वाले इतने घाटे में आ चुके हैं कि तमाम लोग अब अपने सिनेमाघर बंद कर चुके हैं या इसकी योजना बना रहे हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार अभी भारत में दस से पन्द्रह प्रतिशत सिनेमाघर बंद हो चुके हैं। यदि हमारे देश में 9500 से लेकर 10000 एक्टिव स्क्रीन हैं तो उसमें से सो डेढ़ सौ सिनेमा अब तक बंद हो चुके हैं। की संख्या लगातार बढ़ रही है जो एक बड़ा नुकसान हैं। अब जब भी सिनेमाघर खुलेंगे तब बहुत सारे सिनेमा शायद ही खुल पाएं।
पिछले दिनों जब इस तरह की खबरें आई थी कि सरकार अनलॉक चार के तहत सितंबर में सिनेमाघर खोलने की प्लानिंग कर रही है लेकिन वह प्लानिंग ही रह गई ‌। सिनेमाघर मालिकों का कहना है कि सिनेमा इंडस्ट्री देश के कल्चर का एक जरूरी हिस्सा होने के अलावा इकानामी का भी महत्वपूर्ण भाग है जिन से लाखों परिवारों की जीविका चलती है। दुनिया के अन्य देशों में सिनेमाघर खुल चुके हैं लेकिन भारत में अभी इनका खुला दिखाई नहीं दे रहा है।
बाक्स
सिनेमा इंडस्ट्री में सिनेमाघरों में नौकरी करने वालों के साथ साथ अन्य अनेक लोग इस इंडस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इनकी संख्या देशभर में लगभग 20 लाख है। सिनेमा इंडस्ट्री में जो जरूरी उपकरण फिल्म पोस्टर एवं अन्य ऐसी वस्तुओं की आपूर्ति शामिल है जो प्रतिदिन होती है। यह सभी लोग अप्रत्यक्ष तौर पर सिनेमा इंडस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इसके अलावा अब मल्टीप्लेक्स में सिनेमा के अलावा रेस्टोरेंट एवं अन्य कई तरह के व्यवसाय भी चल रहे हैं। मल्टीप्लेक्स बंद होने के कारण यह सभी व्यवसाय भी ठप पड़े हैं। यही हाल बॉलीवुड का भी है। सिनेमाघर बंद होने के कारण बॉलीवुड की गतिविधियां पूरी तरह शुरू नहीं हो पाई है। बॉलीवुड में अनेक लोग ऐसे हैं जिनकी आम आदमी केवल इतनी रहती है जिससे मैं अपना घर चला सके। लॉक डाउन के बाद से इन सभी की रोजी रोटी बंद है। इनमें से अनेक लोगों छोटा-मोटा धंधा कर किसी तरह अपना परिवार चला रहे हैं। बॉलीवुड के बड़े कलाकारों को छोड़ दिया जाए तो पिछले दो चार साल में टीवी और फिल्मों में एक्स्ट्रा के तौर पर काम करने वाले लोग बेरोजगार हो गए हैं। यही हाल रहा तो लाखों लोगों रोटी के लिए भी तरस जाएंगे।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close