Breaking Newsराष्ट्रीय

बेरहम समाज में मासूम बच्चियां बन रही है वहशी और दरिंदों का शिकार

निर्भया के लिए जिस तरह उठी थी आवाज वह आज बनावटी लगने लगी है

image_pdf

कहा जाता है कि आज हम उस दौर से निकलकर सभ्यता के दौर में आ गए हैं जब मानव गुफाओं में रहता था और आपस में कहीं कोई रिश्ता नहीं था। तब न कोई मा थी और ना कोई बहन थी। उस दौर में केवल नर और मादा का ही रिश्ता था। यह बातें तब बनावटी लगने लगती हैं जब मासूम बच्चियों के साथ बेरहमी के साथ ऐसा दरिंदगी भरा व्यवहार होता है जिसे कोई वहशी ही कर सकता है।

9 साल की मासूम बच्ची जिंदगी और मौत के बीच झूल रही है। इस बच्ची के साथ जिस तरह की दरिंदगी की गई है उससे निर्भया के साथ हुई दरिंदगी की बुरी यादें ताजा हो गई हैं। दिल्ली के पश्चिम विहार में 12 वर्षीय मासूम बच्ची के साथ न केवल दरिंदगी की गई बल्कि उस बच्ची के सिर में और शरीर के अन्य अंगों पर बेरहमी के साथ कैची के वार किए गए। दिसंबर की वह सर्द रात जब निर्भया के साथ दरिंदगी हुई थी आज भी लोगों को बुरी यादों की तरह सताती है लेकिन तब पूरे देश में दरिंदों के के खिलाफ आवाज उठी थी। आज इस मासूम बच्ची के पक्ष में कहीं कोई आवाज नहीं उठी है। सवाल उठता है कि कहीं यह वर्ग विभेद की बात तो नहीं है। यहां दिल्ली पुलिस की प्रशंसा की जानी चाहिए जिसने 33 वर्षीय उस शातिर बदमाश को गिरफ्तार कर लिया जिसने मासूम बच्ची के साथ दरिंदगी की थी। शातिर बदमाश की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की 20 टीमें लगी थी जिन्होंने 100 से अधिक सीसीटीवी कैमरे खंगाले और उसके बाद आरोपी को गिरफ्तार किया गया। दरिंदगी का शिकार बच्ची की हालत इस समय अत्यंत खराब है उसकी एम्स में न्यूरो सर्जरी की गई है क्योंकि सिर में गहरे तक कई घाव हैं।

अभी दिल्ली की यह बच्ची जिंदगी के साथ जंग लड़ ही रही है कि उत्तर प्रदेश के हापुड़ जिले के गढ़मुक्तेश्वर में 6 साल की मासूम बच्ची का अपहरण कर उसके साथ वहशीपन का मामला सामने आया है। इस बच्ची को गुरुवार की शाम तब उठा लिया गया था जब यह घर के बाहर खेल रही थी। बाइक सवार दो युवक इस बच्ची को अपने साथ लेकर गए थे। लगभग 12 घंटे की तलाश के बाद शुक्रवार की सुबह लगभग 5:00 बजे बच्ची को घर से लगभग 3 किलोमीटर दूर जंगल में अर्धनग्न अवस्था मे पाया गया। जिस समय बच्ची बरामद हुई उस समय उसकी हालत बहुत खराब थी जिसे स्थानीय अस्पताल में ले जाया गया लेकिन हालत बिगड़ने पर उसे हाय सेंटर के लिए मेरठ रेफर कर दिया गया। इससे पूर्व हापुड़ जनपद के ही हाफिजपुर थाना क्षेत्र में 10 वर्षीय बच्ची के साथ गांव के ही एक युवक ने दुष्कर्म किया था। 4 अगस्त को सिंभावली थाना क्षेत्र के गांव में दो युवकों ने एक युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया था। गत 30 जुलाई को पिलखुआ कस्बे में 6 वर्षीय बच्ची के साथ एक किशोर ने दुष्कर्म किया। इस मामले में भी किशोर ने बच्ची को गला घोट कर जान से मारने का प्रयास किया था। हापुर कोतवाली क्षेत्र में 10 जुलाई को 16 वर्षीय किशोरी के साथ बलात्कार किया गया था।इस मामले में भी विरोध करने पर किशोरी के साथ जमकर मारपीट की गई थी। यह बहुत थोड़े मामले हैं जो पिछले आठ 10 दिन के अंदर प्रकाश में आए हैं। ऐसा कोई दिन नहीं जाता जिस दिन मुख कोई मासूम बच्ची देश के किसी कोने में दरिंदों का शिकार ना बनती हो। एक तरफ हम ढिंढोरा पीटते हैं कि जहां नारी की पूजा की जाती है वहां देवताओं का वास होता है। हमारे समाज में वर्ष में दो बार नवरात्रों के मौके पर कन्या पूजन की प्रथा है। इसके अलावा भी किसी भी शुभ अवसर पर कन्या पूजन की प्रथा चलती रही है। इतना सब कुछ होने पर भी बच्चियों के साथ हो रही दरिंदगी साबित करती है कि समाज के अंदर कहीं गहरे तक मानसिक विकार पैदा हो रहे हैं। बच्चियां क्योंकि शारीरिक तौर पर उतनी समर्थ नहीं होती ताकि वह किसी पुरुष का बलपूर्वक विरोध कर सकें इसलिए बड़ी आसानी के साथ में किसी भी दरिंदे का शिकार बन जाती हैं। अधिकांश मामले ऐसे सामने आ रहे हैं जिनमें पास में रहने वाले लोग आरोपी साबित होते रहे हैं। दिल्ली की जिस बच्ची के साथ दरिंदगी की गई है वह घर में अकेली होती थी क्योंकि उसके मां-बाप और बड़ी बहन परिवार को चलाने के लिए मजदूरी करने जाते हैं। इस बात की जानकारी आरोपी को थी और उसने मौका पाकर बच्ची को अपना शिकार बना लिया।।

समाज विज्ञानियों का कहना है कि बदलते समाज में नशे का बढ़ता प्रचलन युवाओं में मानसिक विकार पैदा कर रहा है। विशेष तौर पर भांग और गांजा आदि पीने वाले लोग नशे के उस दौर में चले जाते हैं जहां में सोचने समझने की स्थिति में नहीं होते। इसके साथ ही सामाजिक विघटन भी बलात्कार की बढ़ती घटनाओं के लिए किसी हद तक जिम्मेदार है। बलात्कार की बढ़ती घटनाएं अकेले पुलिस कार्रवाई से नहीं रोकी जा सकती इसके लिए सामाजिक स्तर पर भी काम करना होगा।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close