Breaking Newsराष्ट्रीय

नगीना :दुर्घटना को निमंत्रण दे रही बलैई गांव की राजकीय स्कूल की इमारत, विद्यालय स्टाफ से भी छात्र, ग्रामीण नहीं है संतुष्ट

सैकड़ों बच्चों की जान को खतरा रहता है हरदम

image_pdf

नगीना खंड के गांव बलैई मे सरकारी स्कूल कि बिल्डिंग जो पिछले 4-5साल पहले बनी थी वो अभी से जर्जर होकर गिर रही हैं, वो तो भगवान का शुक्र हैं कि लोकडाउन के चलते स्कूल बंद हैं अगर स्कूल चालु होता तो इसमें बड़े हादसे होने कि पूरी पूरी सम्भावना है, मुस्लिम महासभा नूह जिलाध्यक्ष जुनैद खान ने बताया कि गांव मे जो स्कूल को देखभाल के लिए कमेटी  बनाई गई है वह स्कूल की सुध नहीं ले रही है, कमेटी मे ऐसा एक भी सदस्य नहीं हैं जिसका बच्चा इस सरकारी स्कूल मे पढता हो !गांव के  राशिद ने बताया कि कि यहाँ कि कमेटी के साथ साथ स्कूल का कोई अध्यापक भी देखरेख नहीं कर रहा है। राशिद ने बताया कि हम इस बिल्डिंग कि शिकायत कई बार उपमंडल नगीना मे भी कर चुके हैं लेकिन यहाँ के अधिकारी किसी बड़े हादसे के इंतज़ार मे हैं ! ग्रामीण फारूक ने बताया कि इस बिल्डिंग कि मरम्मत के दौरान   गावं कि जो कमेटी हैं  चाहे ठेकेदार हो चाहे मुख्याध्यापक हो सभी कहीं ना कहीं घटिया निर्माण कार्य में शामिल है। फारूक ने कहा कि हमारी  सरकार से मांग है इस घटिया निर्माण एवं घोटाले की गहनता से जांच होनी चाहिए !

साहिब ने बताया कि हमें अपने बच्चो को जर्जर भवन की वजह से पढ़ाने के लिए 8-9किलोमीटर गावं से बाहर प्राइवेट स्कूल मे भेजना पड़ता हैं ! मुस्ताक ने बताया कि विद्यालय स्टाफ के बारे में भी बार बार शिकायत छात्र करते है कि स्टाफ बच्चों को पढ़ाने में रूचि नहीं लेता।

हबीब ने बताया कि अगर प्रशासन  योग्य स्टाफ नहीं लगाता है और ईमारत कि जल्द से जल्द मरम्मत नहीं करवाता है  तो हम स्कूल मे ताला लगाकर विरोध प्रदर्शन करेंगे नासिर हुसैन ने बताया कि बच्चों का सेलब्स समय पर पूरा नहीं हो पाता है। अध्यापकों की रूचि ही बच्चों को पढाने में नहीं है। जिसकी वजह से बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ हो रही है

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close