Breaking Newsउत्तर प्रदेशहमारा गाजियाबाद

गाजियाबाद: अध्यापक ने खोली साइकिल पंचर और मरम्मत की दुकान ।

गाजियाबाद: अध्यापक ने खोली साइकिल पंचर और मरम्मत की दुकान ।

गाजियाबाद के विजयनगर इलाके के रहने वाले देवेश कुमार 7 सालों तक दिल्ली के स्कूल में टीचर रह चुके हैं. लेकिन आज के समय में देवेश कुमार साइकिल में पंचर लगाने का काम कर रहे हैं. पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद B.Ed कर चुके देवेश को लॉकडाउन की मजबूरी ने इन हालातों का सामना करने के लिए मजबूर कर दिया है.।
देवेश का कहना है कि दिल्ली के सरकारी स्कूल में गेस्ट टीचर के तौर पर नौकरी करते थे, लेकिन लॉकडाउन ने सब कुछ छीन लिया. पहले से ही गेस्ट टीचर्स का भविष्य अधर में थे और लॉकडाउन के दौरान उनकी नौकरी चली गई.देवेश ने दिल्ली सरकार पर कई आरोप लगाए हैं. देवेश का कहना है कि उन्हें लॉकडाउन के दौरान कहा गया था कि ऑनलाइन क्लासेस देनी होंगी. उन्होंने बच्चों को ऑनलाइन क्लासेज भी दी, लेकिन उस दौरान के वेतन भी उन्हें नहीं मिला है । दिवेश ने अपने परिवार के पालन पोषण के लिए अपने परिवार में तथा अपने मासूम बच्चों के लिए अपनी जिम्मेदारी के चलते साइकिल पंचर की दुकान खुली है ।
देवेश ने बतया कि उनके घर में 8 साल का बच्चा और पत्नी है. इसके अलावा माता-पिता गांव में रहते हैं.। सब की पालन पोषण की जिम्मेदारी उनके कंधों के ऊपर ही है।. ऐसे में उनके पास कोई और रास्ता नहीं बचा था. इस समय सब्जी भी नहीं बेच सकते क्योंकि सब्जी आसानी से नहीं मिल पा रही है.। उसके लिए पहले से मंडी में रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी होता है. कोई अन्य काम भी उनको नहीं मिल पाया जिसके बाद उन्होंने अंत में सोचा कि कोई काम छोटा बड़ा नहीं होता,है इसलिये साइकिल पंचर के लिए एक दुकान किराए पर ली. क्योंकि थोड़ा बहुत काम उन्हें आता था और वह खुद अपनी साइकिल में पंचर लगाया करते थे.।फिलहाल इस काम से वह अपने परिवार का गुजारा चला रहे हैं, । हालांकि देवश यह जरूर कहते हैं कि उन्हें अगर मौका मिलेगा, तो वह दोबारा से बतौर शिक्षक काम करेंगे. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन तो एक बहाना है ।. दरअसल दिल्ली सरकार को गेस्ट टीचर के परमानेंट होने को लेकर कुछ ऐसे नियम बनाने चाहिए, जिससे उन्हें राहत मिल पाए. ।

Show More

Related Articles

Close