Breaking Newsराष्ट्रीय

Nehru Death Anniversary : पंडित नेहरू को पीएम मोदी और राहुल गांधी ने दी श्रद्धांजलि

Nehru Death Anniversary : पंडित नेहरू को पीएम मोदी और राहुल गांधी ने दी श्रद्धांजलि

image_pdf

स्वतंत्र भारत के पहले और सबसे ज्यादा समय तक प्रधानमंत्री रहे पंडित जवाहरलाल नेहरू को उनकी पुण्यतिथि पर पूरा देश याद कर रहा है। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करके कहा, ‘ पुण्यतिथि पर देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू को श्रद्धांजलि।’ राहुल गांधी ने ट्वीट करके कहा, ‘पंडित जवाहरलाल नेहरू जी एक बहादुर स्वतंत्रता सेनानी, आधुनिक भारत के निर्माता और हमारे पहले प्रधानमंत्री थे।उन्होंने देश को ऐसे बड़े संस्थान दिए जो वक्त पर हमारे काम आ सके। भारत के इस महान सपूत को उनकी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि।’

पंडित नेहरू ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महान सेनानी थे। वह लोकतंत्र, धर्मनिरपेक्षता और समाजवाद में विश्वास रखते थे।साल 1955 में पंडित नेहरू को भारत के सर्वोच्‍च नागरिक सम्‍मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया। पंडित नेहरू ने देश की कमान तब संभाली, जब देश भुखमरी, गरीबी और अशिक्षा जैसी महामारी की स्थिति से गुजर रहा था।

आजादी के बाद देश को विकास पथ पर लाने के लिए उन्‍होंने योजना आयोग का गठन किया। उनकी नीतियों वजह से देश में कृषि और उद्योग का एक नया युग शुरु हुआ। पंडित नेहरू को आधुनिक भारत का रचयिता कहते। उन्‍होंने देश में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के विकास को प्रोत्साहित किया।

पंडित जी ने ही संसदीय सरकार की स्थापना और गुटनिरपेक्षता के विचार दिया था। वह 1947 से अपनी मृत्यु तक 1964 तक भारत के प्रधानमंत्री रहे। राष्ट्रीय राजनीति में एक महत्वपूर्ण व्यक्ति, नेहरू ने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दोनों स्तर में बहुत सम्मान अर्जित किया।14 नवंबर 1889 को प्रयागराज ( पहले इलाहाबाद) में जन्में पंडित नेहरू का 27 मई, 1964 को 74 वर्ष की आयु में निधन हो गया।

पंडित नेहरू एक महान राजनीतिज्ञ और प्रभावशाली वक्ता होने के साथ-साथ महान लेखक भी थे। उनकी रचनाओं में ग्लिम्प्स ऑफ वर्ल्ड हिस्ट्री, इंडिया एंड द वर्ल्ड, द डिस्कवरी ऑफ इंडिया और और बायोग्राफी ‘टुवर्ड फ्रीडम’ प्रचलित हैं। इन सभी किताबों में द डिस्कवरी ऑफ इंडिया सबसे प्रचलित किताब है। इसकी किताब की रचना 1944 में अहमदनगर की जेल में हुई थी। पंडित नेहरू ने इसे अंग्रेजी में लिखा था। बाद में हिंदी में अनुवाद हुआ।

 

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close