Breaking Newsउत्तर प्रदेशराष्ट्रीय

यूपी में कोरोना मरीजों का कुल आंकड़ा 4000 के पार, अब तक 92 की मौत

यूपी में कोरोना मरीजों का कुल आंकड़ा 4000 के पार, अब तक 92 की मौत

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार उछाल जारी है। शुक्रवार को भी राज्य में 159 नए मरीज मिले, जिसके बाद प्रदेश में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 4059 हो गई है। गौरतलब है कि प्रदेश में कोरोना मरीजों की एक दिन में मिलने वाली यह तीसरी बड़ी संख्या है। शनिवार को भी कुशीनगर में एक और देवरिया में पांच नए कोरोना के केस मिले हैं। इसके बाद देवरिया में कोरोना मरीजों की कुल संख्या बढ़कर 7 हो गई है और कुशीनगर में यह तीसरा मरीज है। उत्तर प्रदेश में अपने अपने गृह जनपदों में पहुंचे दो लाख 62 हजार से अधिक प्रवासी श्रमिकों और कामगारों का आशा वर्कर ने सर्वेक्षण किया है और इनमें से 305 लोग कोरोना संक्रमण के लिहाज से किसी ना किसी लक्षण वाले मिले हैं। प्रमुख सचिव (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने यहां संवाददाताओं से कहा, एक व्यवस्था प्रवासी कामगारों के लिए की गयी है। आशा वर्कर उनके घर पर जाकर हालचाल पूछती हैं। सर्वेक्षण के आधार पर डाटा तैयार होता है और फिर उस पर आगे चिकित्सा विभाग कार्रवाई करता है। अब तक आशा वर्कर द्वारा दो लाख 62 हजार 638 प्रवासी कामगारों का सर्वेक्षण किया जा चुका है और 305 लोग किसी ना किसी लक्षण वाले मिले हैं, जिन्हें सर्दी, खांसी या सांस लेने में दिक्कत थी। उनके सैम्पल लेकर परीक्षण कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में इस समय 1871 मरीज अलग वार्ड में हैं जबकि 9911 लोग पृथक -वास केन्द्र में हैं। संक्रमित लोगों में से 74 . 6 प्रतिशत पुरूष और 25 . 4 प्रतिशत महिलाएं हैं। प्रसाद ने बताया कि अब तक प्रदेश में कोरोना संक्रमण के 3945 प्रकरण सामने आ चुके हैं जो 75 जिलों से हैं। इनमें से 1773 का इलाज चल रहा हैं। उन्होंने बताया कि 2080 लोग पूर्णतया उपचारित होकर अपने घरों को जा चुके हैं और राज्य में कोरोना संक्रमण से अब तक 92 लोगों की दुर्भाग्यपूर्ण मौत हुई है। प्रसाद ने बताया कि कल 4878 लोगों का परीक्षण किया गया। कुल 426 पूल जांच हुआ। 2082 नमूने जांचे गये, जिनमें से 35 पूल पाजिटिव आये। उन्होंने बताया कि अभी तक प्रदेश में जो पूल जांच किये जा रहे थे, उनमें पांच सैम्पल शामिल होता था। अब जांच लैब ने ये निर्णय लिया है कि पहले चरण में पांच से बढाकर दस सैम्पल का पूल होगा। उसके बाद इसे और बढाएंगे। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद : आईसीएमआर: द्वारा 25 सैम्पल तक पूल करने की अनुमति दे दी गयी है।

Show More

Related Articles

Close