Breaking Newsउत्तर प्रदेशहमारा गाजियाबाद

भातखंडे संगीत महाविद्यालय गाजियाबाद की प्रस्तुति मां तुझे प्रणाम

भातखंडे संगीत महाविद्यालय गाजियाबाद की प्रस्तुति मां तुझे प्रणाम

image_pdf

मां एक छोटा सा शब्द जैसे पूरी सृष्टि को समेटे हुए है। इस छोटे से शब्द की व्याख्या करना मुझ जैसी अल्पज्ञानी के लिए तो असम्भव ही है। मां के बिना संसार की कल्पना भी नहीं की जा सकती क्योंकि मां ही एक ऐसी शक्ति है जो धरती पर किसी दूसरे प्राणी को पैदा करने की सामर्थ्य रखती है। विश्व के किसी और जीव में यह ताकत नहीं है। मां कोई व्यक्ति नहीं, अपितु एक एहसास है, एक विश्वास है, एक प्रसाद है, जो हमें जीवन में हर मुसीबत से लडने की प्रेरणा ही नहीं बल्कि हिम्मत भी देता है।
मां जैसे विस्तृत विषय पर शब्दों में कुछ कहना या लिखना तो बहुत ही कठिन कार्य है। ज़रा सोचिए अपने जीवन के उस क्षण के बारे में जब हम इस दुनिया में आए थे, हमने मां के एक स्तन से अमृत पान किया और कभी न कभी दूसरे स्तन पर ठोकर भी मारी होगी। ठोकर खाकर भी जो अमृत पिलाए, वो तो केवल मां ही हो सकती है। किसी ने सच ही लिखा है-
ऐ मां तेरी सूरत से अलग भगवान की सूरत क्या होगी?
भगवान को तो हमने नहीं देखा, किन्तु जो अपनी मां के आंचल की छांव में पले बढ़े हैं उनसे अधिक भाग्यशाली संसार में कोई नहीं हो सकता।
मातृ दिवस के पावन अवसर पर मैं दुनिया की हर मां को प्रणाम करती हूं, जो सूर्य के समान अपनी संतान के जीवन को सदा उजागर रहने की कामना करती है। आज सभी अपने अपने तरीके से मदर्स डे मना रहे हैं कोई केक काटकर तो कोई अपनी मां को उपहार देकर।
वी एन भातखंडे संगीत महाविद्यालय गाजियाबाद के निर्देशक परम श्रद्धेय गुरुजी पंडित हरिदत्त शर्मा जी की प्रेरणा और आशीर्वाद के फलस्वरूप हम छात्र छात्राओं ने एक वीडियो बनाया है – मां तुझे प्रणाम जो मातृ शक्ति को समर्पित है। इस वीडियो में कु चैती शर्मा पार्श्वगायिका के रूप में हैं और महाविद्यालय के लगभग 60 छात्र छात्राओं ने सहभागिता की है। आपसे अनुरोध है कि आप सब इस वीडियो को देखकर सभी नवोदित कलाकारों को अपना स्नेह और आशीष प्रदान करें। मुझे पूर्ण आशा और विश्वास है कि आप अवश्य ही बच्चों के इस छोटे से प्रयास की सराहना करेंगे।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close