Breaking Newsराष्ट्रीय

लॉकडाउन: 55 दिनों से दिल्ली एयरपोर्ट पर फंसा है जर्मनी का शख्स, जानें स्वदेश जाने के ऑफर को क्यों ठुकराया

लॉकडाउन: 55 दिनों से दिल्ली एयरपोर्ट पर फंसा है जर्मनी का शख्स, जानें स्वदेश जाने के ऑफर को क्यों ठुकराया

image_pdf

कोरोना वायरस महामारी को फैलने से रोकने के लिए उड़ानों पर प्रतिबंध के चलते एक जर्मन नागरिक 18 मार्च से दिल्ली हवाई अड्डे के ट्रांजिट एरिया में रह रहा है। पिछले 55 दिनों से इस इलाके में रह रहे 40 वर्षीय जर्मन नागरिक को स्वदेश जाने का भी प्रस्ताव दिया गया, मगर उसने ठुकरा दिया। अब उसे ‘भारत छोड़ो नोटिस’ जारी किया गया है। इस जर्मन व्यक्ति पर जर्मनी में आपराधिक मामला दर्ज है।

अधिकारियों ने बताया कि जर्मनी का एडगार्ड जेबैट नामक शख्स ने कहा कि जैसे ही लॉकडाउन खत्म होने के बाद इंटरनेशलन फ्लाइट की सेवा शुरू हो जाएगी, वह भारत छोड़ देगा और तब तक के लिए वह एयरपोर्ट पर ही रहना चाहता है।

इसके अलावा, अधिकारियों ने बताया, ‘एक जर्मन नागरिक 18 मार्च को दिल्ली होते हुए हनोई से इस्तांबुल जा रहा था। भारत ने 18 मार्च को तुर्की से आने और जाने वाली उड़ानें रद्द कर दी थीं इसलिए जर्मन नागरिक दिल्ली हवाई अड्डे की टर्मिनल संख्या तीन पर फंस गया।’

अधिकारियों ने कहा कि जर्मनी में उस व्यक्ति के विरुद्ध आपराधिक मामला दर्ज है, इसलिए वह वहां नहीं जाना चाहता। उन्होंने कहा, ‘जर्मन व्यक्ति को 18 मार्च से भोजन और अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। वह ट्रांजिट एरिया में रह रहा है। नागर विमानन मंत्रालय और जर्मन दूतावास को इसकी सूचना दे दी गई है।’

इस विषय पर दिल्ली अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा लिमिटेड (डीआईएएल) के प्रवक्ता ने कहा, ‘हम इस बात की पुष्टि करते हैं कि दिल्ली हवाई अड्डे के अंतरराष्ट्रीय टर्मिनल के ट्रांजिट एरिया में एक विदेशी नागरिक है, जो आगे की नियमित उड़ान न मिलने के कारण फंसा हुआ है।’

डीआईएएल के प्रवक्ता ने कहा, ‘संबंधित अधिकारियों को इसकी सूचना दे दी गई है। वे विदेशी नागरिक के संपर्क में हैं।’ कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के वास्ते भारत में 25 मार्च से लॉकडाउन लागू है और इस दौरान सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध है। तुर्की और चीन से आने और जाने वाली सभी उड़ानें 25 मार्च के पहले से निलंबित हैं।

 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close