Breaking Newsराष्ट्रीय

भारतीय वैज्ञानिकों ने किया दावा, 30 सेकेंड में कोरोना संक्रमण की सटीक जांच

भारतीय वैज्ञानिकों ने किया दावा, 30 सेकेंड में कोरोना संक्रमण की सटीक जांच

image_pdf

भारतीय वैज्ञानिकों ने कोरोना संक्रमण की त्वरित जांच करने वाली ई-कोव-सेंस नामक इलेक्ट्रोकेमिकल सेंसिंग डिवाइस तैयार की है। दावा है कि लार का नमूना रखते ही यह मशीन 10 से 30 सेकेंड में सटीक परिणाम दे देती है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एनिमल बायोटेक्नोलॉजी, हैदराबाद की शोधकर्ता टीम में शामिल प्रमुख वैज्ञानिक कहा लार का नमूना रखते ही यह मशीन कोरोना वायरस स्पाइक प्रोटीन एंटीजन की उपस्थिति का सटीक संकेत दे देती है। मशीन की स्वीकृति के लिए सरकार को आवेदन भेजा जा रहा है।

अलीगढ़, उप्र की मूल निवासी इंस्टीट्यूट की डीन डॉ. सोनू गांधी ने बताया- यह इलेक्ट्रोकेमिकल डिवाइस कोरोना वायरस के रैपिड डिटेक्शन के लिए है, जो जांच के दौरान एंटीजन-एंटीबॉडी के बीच होने वाली प्रतिक्रिया और फलस्वरूप उत्पन्न इलेक्ट्रिक चार्ज के प्रवाह पर आधारित है। हमने इसमें स्क्रीन प्रिंटेड कार्बन इलेक्ट्रोड पर कोविड-19 के एंटीबॉडी को स्थिर किया है।

सीधे शब्दों में कहें तो डिवाइस में एक इलेक्ट्रोड कोविड-19 के एंटीबॉडी के साथ लेपित है और जब संक्रमित व्यक्ति की लार का नमूना इस पर लगाया जाता है तो यह लार में मौजूद कोविड-19 स्पाइक प्रोटीन एंटीजन के साथ इलेक्ट्रोकेमिकल रिएक्शन करता है, जिससे क्षणिक विद्युत प्रवाह होता है। विद्युत चालकता में होने वाले इस परिवर्तन को यह मशीन माप लेती है। यदि लार में कोविड-19 स्पाइक प्रोटीन (एंटीजन) है तो ही यह प्रतिक्रिया होगी। तब तुरंत पता चल जाएगा कि व्यक्ति संक्रमित है।

डॉ. सोनू कहती हैं कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए यह आवश्यक है कि जांच अधिक मात्रा में हो ताकि जल्द से जल्द संक्रमण का पता चल सके। देर होने पर उपचार में कठिनाई आती है। अत: रैपिड टेस्ट डिवाइस इस समय बहुत आवश्यक है, जो वायरस की जल्द जांच कर सके। यह डिवाइस 10-30 सेकेंड में रिपोर्ट दे देती है। लैब टेस्टिंग में यह मानक पर खरी है। यह शोध प्रीप्रिंट पेपर में भी प्रकाशित हुआ है। अमेरिका में बनी रैपिड टेस्ट मशीन पांच मिनट का समय लेती है, जिसकी तुलना में यह काफी तेज है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close