UNCATEGORIZED

प्रेरणादायक;- चुरू के डॉ कादिर हुसैन रामगन्ज में कोरोना को हराने में जुटे

चुरू!राजस्थान राज्य में जिला चुरू के ग्राम पंचायत लाखाऊ के गाँव आसलु निवासी हाजी बदरी खान उर्फ बदरुद्दीन भाटी सेवानिवृत्त प्रधानाध्यापक के एकमात्र पुत्र डॉ कादिर हुसैन जयपुर में युनानी चिकित्सा निदेशालय में चिकित्सा अधिकारी के पद पर कार्यरत हैं!

image_pdf

चुरू!राजस्थान राज्य में जिला चुरू के ग्राम पंचायत लाखाऊ के गाँव आसलु निवासी हाजी बदरी खान उर्फ बदरुद्दीन भाटी सेवानिवृत्त प्रधानाध्यापक के एकमात्र पुत्र डॉ कादिर हुसैन जयपुर में युनानी चिकित्सा निदेशालय में चिकित्सा अधिकारी के पद पर कार्यरत हैं! कोरोना वाइरस के सक्रमण के चलते पुरी दुनिया के चिकित्सक ,नर्सिंग कर्मी, पैरामेडिकल और हेल्थ केयर से जुड़े सभी मरीजों के स्वास्थ्य में सुधार के लिए जुटे हुए हैं!

जयपुर के रामगन्ज इलाके को कोरोना हाटस्पाट क्षेत्र माना जाता है, जिसमें मुस्लिम आबादी 100 फिसदी है! इस हाटस्पाट क्षेत्र में कोरोना को हराने के लिए डॉ कादिर हुसैन पुरे जौश व जज्बात के साथ काम कर रहे हैं क्योंकि जब डाक्टर की पढ़ाई की तब इनका रहना इसी क्षेत्र में होता था जिसका कर्ज अब उतारने का वक्त समझकर और बिते दिनों को याद कर डॉ कादिर हुसैन ने ठाना की अपने भाईयों को इस बिमारी से बचाने का काम करना बहुत जरूरी है! अगर हजारों को बचाकर मुझे कोरोना जकड़ भी लेता है तो कोई गम नहीं! क्योंकि जिन्दगी में ऐसे मौके कभी कभी ही आते हैं!

घाटगेट में स्क्रीनिंग टीम का नेतृत्व कर डोर टू डोर सक्रमण के सन्दिग्ध मरीजों का सर्वे करवाया! उसके बाद रेपिड रेस्पॉन्स टीम आर आर टी में काम कर कोरोना पोजिटिव मरीजों को हास्पिटलाईजेशन करवाने का काम किया! जुनून की हद्द तो देखिए एक ही तरह की ड्यूटी न करकर बार बार हर तरह की ड्यूटी अन्जाम दी!यहाँ तक की साप्ताहिक अवकाश भी नहीं लिया और राजकीय अवकाश को भी काम किया! शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र लक्ष्मी नारायण पुरी में सेम्पल टेस्टिंग (throat swab collection) के लिए मरीजों की हिस्ट्री, क्लिनिकल सिप्टम एन्ड साइन, अन्डरलाइन्ग मेडिकल कन्डिशन्स, होस्पिटिलाइजेशन, ट्रिटमेन्ट एन्ड इन्वेस्टिगेशन की जानकारी भी जुटाने में अपनी अहम भूमिका निभाई! इसके अलावा कार्यालय के प्रबंधकीय वर्ग में भी अपना कौशल दिखा कर व्यवस्था सम्भाली!

डॉ कादिर हुसैन ने कहा कि खुदा ने बनाया ही इसीलिए हैं तो माँ बाप के नाम को रौशन करना मेरा फर्ज है! हालांकि आज माँ इस दुनिया में नहीं है लेकिन माँ की दुआएँ मेरे साथ हरदम है! काम के दबाव की वजह से पुरे दिन में परिवार से बात मोबाइल से भी नहीं कर पाते हैं लेकिन 80 वर्ष के वालिद साहब से जरूर समय निकाल कर बात करता हूँ ताकि उनकी भी दुआएँ व आशीर्वाद मिलता रहे!

आखिर में डॉ कादिर हुसैन ने कहा कि कोरोना को हराने के लिए चिकित्सक अकेले कुछ नहीं कर सकते, इसमें आप सब के सहयोग की जरूरत है, सरकार के आदेशों की पालना की जाए, फिजीकली डिस्टेंस बनाकर रहे, मास्क का उपयोग घर से बाहर जरूर करे और बिमारी को छुपाएँ नहीं बल्कि नजदीकी अस्पताल में जाकर निशुल्क जांच करवाएं!

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close