Breaking Newsराष्ट्रीय

मध्य प्रदेशः कमल या कमलनाथ, सरकार के शक्ति परीक्षण पर संशय बरकरार

मध्य प्रदेशः कमल या कमलनाथ, सरकार के शक्ति परीक्षण पर संशय बरकरार

image_pdf

मध्य प्रदेश में सोमवार को विधानसभा में कमलनाथ सरकार के शक्ति परीक्षण को लेकर संशय का माहौल बन गया है। विधानसभा सचिवालय की तरफ से रविवार रात जारी की गई सोमवार की कार्यसूची में फ्लोर टेस्ट का कोई जिक्र नहीं किया गया है। हालांकि देर रात राज्यपाल लालजी टंडन ने सरकार को दूसरा पत्र जारी कर दिया, जिसमें सरकार को विश्वास मत के दौरान हाथ उठाकर मत विभाजन कराने का आदेश दिया गया है।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने देर रात 12.20 बजे राजभवन में राज्यपाल से मुलाकात की। बकौल कमलनाथ, राज्यपाल ने मुझसे कहा कि विधानसभा की कार्यवाही निर्बाध चलनी चाहिए। लिहाजा मैंने उन्हें बताया कि इस संबंध में मैं सोमवार सुबह स्पीकर से बात करूंगा। शक्ति परीक्षण का फैसला भी स्पीकर ही लेंगे। हम शक्ति परीक्षण के लिए तैयार हैं लेकिन बंधक बनाए गए विधायकों को पहले रिहा किया जाए।

इससे पहले जयपुर में ठहरे कांग्रेस के 85 विधायकों के भोपाल पहुंचने पर सियासी हलचल बढ़ गई। वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और शोभा ओझा ने मुख्यमंत्री कमलनाथ से उनके आवास पर मुलाकात की। लेकिन इसके बाद रात में जारी विधानसभा के कार्यक्रम में राज्यपाल के अभिभाषण और उस पर धन्यवाद ज्ञापन का जिक्र था।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close