Breaking Newsराष्ट्रीय

निर्भया केसःदोषियों के वकील एपी सिंह ने चली नई चाल

निर्भया केसःदोषियों के वकील एपी सिंह ने चली नई चाल

image_pdf

निर्भया के गुनहगारों का वकील एपी सिंह लगातार कुछ न कुछ ऐसा कर रहा है जिससे दोषियों की फांसी लटकती जा रही है। अब उसने एक बार फिर एक ऐसा दांव चला है जिससे हो सकता है कि फरवरी में निर्भया के दोषियों को फांसी ही न हो

पटियाला हाउस कोर्ट ने बुधवार को दोषियों की फांसी के लिए नया डेथ वारंट जारी करने की निर्भया के माता-पिता और दिल्ली सरकार की याचिका पर सुनवाई की। इस बीच, दोषी पवन की ओर से दलील दी गई कि उसके पास कोई वकील नहीं है। इसलिए वह अपने कानूनी विकल्पों का उपयोग नहीं कर पा रहा है। इस दलील के आधार पर कोर्ट ने पवन को कानूनी सहायता प्रदान की। वकील को पवन की ओर से बहस के लिए गुरुवार तक का समय दिया गया।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धर्मेंद्र राणा के समक्ष निर्भया के माता-पिता और सरकारी वकील ने दोषियों को फांसी देने के लिए तीसरा डेथ वारंट जारी करने की मांग की। इस बीच, निर्भया की मां ने कहा कि उन्हें इस लड़ाई को लड़ते हुए सात साल बीत चुके हैं और अब मामला बिना वजह लटकता जा रहा है। उनकी बेटी को न्याय दिलाने के लिए जल्द नया डेथ वारंट जारी किया जाए

वहीं सरकारी वकील इरफान अहमद ने कोर्ट को बताया कि उन्होंने दोषियों को नोटिस जारी किए थे, लेकिन पवन की ओर से वकील एपी सिंह ने नोटिस लेने से इनकार करते हुए कहा कि अब वह उसका केस नहीं लड़ेंगे। इस पर कोर्ट ने कहा कि ऐसे में पवन को कानूनी सहायता देनी होगी। अदालत ने मुकेश की वकील वृंदा ग्रोवर से पूछा कि क्या वह पवन की ओर से पैरवी करने की इच्छुक हैं तो ग्रोवर ने इनकार करते हुए कहा कि यह केस बहुत पेचीदा है।

इसके बाद अदालत ने लीगल ऐड के अधिकारी को वकीलों की सूची के साथ बुलाया और सूची जेल प्रशासन को देते हुए निर्देश दिया कि दोषी को इनमें से वकील चुनने के लिए कहा जाए। इस बीच पवन के पिता ने कोई भी सरकारी वकील लेने से इनकार कर दिया। हालांकि कोर्ट के कहने के बाद उन्होंने वकील लेने पर सहमति जताई। साथ ही अदालत ने कहा कि अब मामले की सुनवाई गुरुवार को होगी। पवन के वकील की दलीलें सुनना बेहद आवश्यक हैं। उससे पहले अदालत कोई कदम नहीं उठा सकती।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close