Breaking Newsराष्ट्रीयहमारा गाजियाबाद

ग़ाज़ियाबाद में 23वे राष्ट्रीय युवा महोत्सव 2020 का आयोजन

ग़ाज़ियाबाद में 23वे राष्ट्रीय युवा महोत्सव 2020 का आयोजन

image_pdf

23वे राष्ट्रीय युवा महोत्सव 2020 लखनऊ के अंतर्गत शहर में स्थित जी पी ओ ग्राउंड पर गैर प्रतिस्पर्धी सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन नोडल अधिकारी सैमसन मसीह के निर्देशन में जीपीओ ग्राउंड पर श्री आर एन त्यागी उपनिदेशक नेहरू युवा केन्द्र दिल्ली एवं मुकुंद वल्लभ शर्मा लेखाकार नेहरू युवा केन्द्र ग़ाज़ियाबाद के संयोजन में किया गया। कार्यक्रम का उदघाटन कमलजीत सिंह सिंधू राज्य निदेशक युवा सेवा पंजाब ने किया । उन्होंने कार्यक्रम की सराहना करते हुए सभी कलाकारों को प्रस्तुति के लिए बधाई दी। कार्यक्रम का संचालन मुरादाबाद के युवा कवि श्री इशांत शर्मा , कु. संजना एवं डॉ रंजना त्रिपाठी सहायक प्रोफेसर , आर्य कन्या डिग्री कॉलेज प्रयागराज ने किया कार्यक्रम में विभिन्न राज्यों जैसे प्रयागराज के कीर्ति श्रीवास्तव ग्रुप ने पारंपरिक लोकगीत की मनमोहक प्रस्तुति के साथ साथ इलाहाबाद के लोकनृत्य ढेढिया को भी प्रस्तुत किया एवं वाहवाही बटोरी ।तत्पश्चात पंजाब की टीम ने प्रीत कोहली के निर्देशन में मानवी , कीर्ति , दर्श , तनवीर एवं अन्य सभी साथियों ने सम्मी नामक लोकनृत्य को बहुत सुंदर ढंग से प्रस्तुत किया एवं दर्शको के मन को मोहा मगर सिलसिला यही नही रुका उसके बाद रंगीलो राजस्थान की टीम ने कार्तिकेय शर्मा के निर्देशन में समूह लोकनृत्य एवं निकिता एवं चेतना ने कालबेलिया नामक ऊर्जावान लोकनृत्य प्रस्तुत किया एवं सभी दर्शको का ध्यान आकर्षित किया । तत्पश्चात युवा उत्सव की मेजबान लखनऊ की टीम ने सपना के नेतृत्व में लखनऊ से शुरू करते हुए अवधि , गुजराती , हरयाणवी ,पंजाबी भाषाओ के साथ साथ देशभक्ति गीतों पर अपना नृत्य प्रस्तुत किया । तत्पश्चात जनपद गौतमबुद्ध नगर की टीम ने हरियाणा , पंजाब ,उत्तर प्रदेश की सबसे मशहूर विधा रागनी के माध्यम से गायक सत्येंद्र यादव समाज की चार मुख्य कुरीतियों नशा , दहेज , निरक्षरता एवं बढ़ती जनसंख्या को सुदृढ़ ढंग से प्रस्तुत किया । इस बीच नेहरू युवा केन्द्र उत्तर प्रदेश के उपनिदेशक शफीक जमा खान का संयोजक मुकन्द वल्लभ शर्मा ने पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया एवं उपनिदेशक ने शुभकामनाएं देते हुए कुछ शायरी के माध्यम से दर्शकों को उत्साहित किया । तत्पश्चात आंध्रप्रदेश के कलाकारों ने गांधीजी के प्रिय भजन वैष्णव जन एवं नागाश्रवनी ने कुचिपुड़ी नृत्य प्रस्तुत किया , हिमाचल प्रदेश की सूत्रधार कला संगम टीम ने सुदर श्याम के नेतृत्व में कुल्विनपी नामक लोकनृत्य जो शादी एवं नवजात शिशु के पैदा होने के समय किया जाता है को प्रस्तुत किया । इसके बाद हिमाचल प्रदेश से करन ने एक पहाड़ी गीत प्रस्तुत किया , सिक्किम की टीम ने भूटिया एवं राई सिलिफ़ ऑफ डांस जो पक्षियों को उड़ाने के लिए किया जाता है प्रस्तुत किया , ग़ाज़ियाबाद जनपद की समग्र भारत नाट्य मंच की टीम ने बेटियों के ऊपर एक नुक्कड़ नाटक प्रस्तुत किया एवं गुजरात से आई हुई एक प्रतिभागी ने ओडिशी नृत्य की शानदार प्रस्तुति दी एवं संदेश दिया कि भारत के पूरा भारत एक है तत्पश्चात बिहार की टीम ने अमित गालानी द्वारा निर्देशित चारदीवारी नामक एकांकी नाटक जोकि महिला शसक्तीकरण के ऊपर प्रस्तुत किया इसके बाद हरियाणा की टीम दामण कुढ़ता चुंदड़ी गाने पर लोकनृत्य प्रस्तुत किया , महाराष्ट्र के गुरु मावली कला मंच द्वारा पारंपरिक गोंधळ जो जगदम्बा की आराधना के वक्त किया जाता है उस लोककला को प्रस्तुत किया। कार्यक्रम को देखने के लिए सैकड़ों की संख्या में लोगों ने भारतीय संस्कृति का आनन्द लिया जिसमे सुरक्षा बल के जवानों से लेकर सरकारी कर्मचारी एवं आम जन तक सम्मिलित थे । कुछ आमजनों ने तो कलाकारो की हौसला अफजाई के लिए इनाम स्वरूप धनराशि भी कलाकारों को दी । दर्शकों से जब कार्यक्रम के बारे में टिप्पणी ली गयी तो बड़ी ही सकारात्मक एवं धन्यवाद भरी बातें सभी ने कही की हम सौभाग्य मानते है कि इस तरह का राष्ट्रीय स्तरीय कार्यक्रम हमारे लखनऊ में हो रहा है हम भारत सरकार एवं इस कार्यक्रम में लगे सभी व्यक्तियों और प्रतिभागियों को बधाई देते है । कार्यक्रम संयोजन में राष्ट्रीय युवा स्वयं सेवक शारिफ अहमद , नीतीश श्रीवास्तव , सनोवर खान , कैफ खान , ग़ाज़ियाबाद , कु. अनामिका , दीपक तिवारी कानपुर , रविन्द्र सैनी मेरठ का विशेष योगदान रहा।

 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close