Breaking Newsराष्ट्रीय

कन्नौज बस हादसे में सबसे बड़ा खुलासा

कन्नौज बस हादसे में सबसे बड़ा खुलासा

कन्नौज के छिबरामऊ के घिलोई गांव के पास शुक्रवार रात आग का गोला बनी बस में न इमरजेंसी दरवाजा था और न खिड़की। बस हादसे की जांच में लगे विधि विज्ञान प्रयोगशाला लखनऊ के डिप्टी डायरेक्टर जी खान ने इसे ज्यादा लोगों की मौत कारण माना है। उनका कहना है, आग लगने से अधिकांश लोग बस के अंदर ही फंसकर रह गए।

उन्होंने बस को मानकविहीन बताया। विधि विज्ञान प्रयोगशाला में हड्डियों का डीएनए टेस्ट भी शुरू हो गया है। उधर, बस हादसे की मजिस्ट्रियल जांच डीएम रविंद्र कुमार ने एडीएम गजेंद्र कुमार सिंह को सौंपी है। विधि विज्ञान प्रयोगशाला के डिप्टी डायरेक्टर और मेडिकोलीगल एक्सपर्ट जी खान ने जोनल फील्ड यूनिट कानपुर जोन प्रभारी सुधीर द्विवेदी और जिला फील्ड यूनिट टीम प्रभारी रामेंद्र शंकर श्रीवास्तव के साथ बस के अंदर से कई नमूने एकत्र किए।

डिप्टी डायरेक्टर खान बस में मिली हड्डियों और अवशेषों को लेकर लखनऊ चले गए। उन्होंने बताया कि डीएनए टेस्ट शुरू हो गया है, इसके बाद ही मृतकों की संख्या का पता चल सकेगा।

इधर, जिलाधिकारी रविंद्र कुमार ने हादसे की जांच एडीएम गजेंद्र कुमार सिंह को सौंप दी है, जल्द से जल्द रिपोर्ट देने के आदेश भी दिए हैं। ताकि हादसे के जिम्मेदार लोगों पर सख्त कार्रवाई की जा सके। मृतकों की संख्या का सही पता चल सके। विमल ट्रैवल्स एजेंसी के मालिक की भी तलाश तेज कर दी गई है।

 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close