Breaking Newsअंतर्राष्ट्रीयराष्ट्रीय

ननकाना साहिब गुरुद्वारा में पत्थरबाजी

ननकाना साहिब गुरुद्वारा में पत्थरबाजी

image_pdf

पाकिस्तान में अल्‍पसंख्‍यकों का दमन थमने का नाम नहीं ले रह है। सिखों के सबसे पवित्र धर्मस्थलों में से एक ननकाना साहिब गुरुद्वारा पर शुक्रवार को सैकड़ों लोगों की भीड़ ने पत्थरबाजी की। भीड़ ने श्री ननकाना साहिब में रहने वाले सिखों के साथ मारपीट की और उनके घरों पर पत्थरबाजी भी की।गुरुद्वारे को शुक्रवार दोपहर को भीड़ ने घेर लिया। वहां पर भारी संख्‍या में पुलिस बल तैनात है, मगर हालात तनावपूर्ण हैं।

वहीं इस पवित्र शहर का नाम बदलकर गुलाम अली मुस्तफा करने की धमकी दी गई। सिख समुदाय के लोग गुरुद्वारे के अंदर फंसे हुए हैं और ननकाना साहिब पर हमले की आशंका से सिख समुदाय के कई लोग घरों में छिपे हुए हैं।

पिछले साल ज्ञानी भगवान सिंह की बेटी जगजीत कौर का अपहरण कर उसका धर्मातरण करवाने वाले मोहम्मद हसन के रिश्तेदार राणा मंसूर ने भीड़ को उकसाया और ननकाना साहिब के गेट पर पथराव किया। घटना उस समय हुई, जब मुस्लिम समुदाय के लोग जुमे की नमाज अदा कर घर को लौट रहे थे। ननकाना साहिब में रहने वाले मुस्लिम समुदाय के लोगों ने ननकाना साहिब के मुख्य बाजार में धरना भी दिया। धरने का नेतृत्व राणा मंसूर ने किया।

भीड़ ने श्री ननकाना साहब में रहने वाले सिखों के साथ मारपीट की और उनके घरों पर पत्थर मारे। राणा मंसूर ने धमकी दी कि इस शहर का नाम बदल कर ग़ुलाम-ए-मुस्तफा कर दिया जाएगा। राणा मंसूर ने ललकारते हुए कहा कि ननकाना साहिब से सिखों को बाहर निकाला जाएगा। इस घटना की वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुई है। इन लोगों का आरोप था कि ‘अपनी मर्जी से इस्लाम कबूलने’ और ‘शादी करने वाली’ लड़कियों को लेकर सिख समुदाय बेवजह हंगामा खड़ा करता है।

पाकिस्तान में ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हमले पर एक बयान जारी करते हुए भारत सरकार ने इसकी कड़ी निंदा की है और पाकिस्तान सरकार से इस मामले में उचित कार्रवाई करने की अपील की है।

ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हमले को लेकर के पंजाब सीएम कैप्टन सीएम अमरिंदर सिंह ने ट्वीट करके पाकिस्तानी पीएम इमरान खान से मामले में कार्रवाई और साथ ही गुरुद्वारे में फंसे हुए श्रद्धालुओं को सुरक्षित बाहर निकालने की अपील की है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close