Breaking Newsराष्ट्रीय

जामा मस्जिद के शाही इमाम ने कहा CAA से भारतीय मुसलमानों को डरने की जरूरत नहीं

जामा मस्जिद के शाही इमाम ने कहा CAA से भारतीय मुसलमानों को डरने की जरूरत नहीं

image_pdf

देश की राजधानी में नागरिकता कानून के खिलाफ जारी प्रदर्शन के बीच दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम सैय्यद अहमद बुखारी का अहम बयान आया है। उन्होंने कहा है कि नागरिकता संसोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर में अंतर है। साथ ही कहा है कि नागरिकता संसोधन कानून तो बन गया है, लेकिन एनआरसी कानून नहीं बना है।

उन्होंने यह भी कहा कि विरोध प्रदर्शन करना हमारा अधिकार है और हमें इससे कोई वंचित कर सकता है। इसके साथ ही उन्होंने प्रदर्शनकारियों को यह भी नसीहत दी है कि प्रदर्शन के दौरान लोग अपनी भावनाओं पर नियंत्रण रखे।मंगलवार को पूर्वी दिल्ली के दरियागंज, जाफराबाद और सीलमपुर समेत आधा दर्जन इलाकों में विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गया था। इस दौरान 20 से अधिक लोग घायल हुए तो कई वाहनों में भी तोड़फोड़ की गई।

बता दें कि पूर्वी दिल्ली के दरियागंज, सीलमपुर और जाफराबाद इलाके में हुई हिंसा की घटना के लिए राजनीतिक पार्टियों के नेताओं ने बाहरी लोगों को जिम्मेदार बताया है। नेताओं ने पुलिस से कहा है कि इस घटना के लिए सीलमपुर, जाफराबाद और वेलकम इलाके के लोग जिम्मेदार नहीं है। बाहरी लोगों ने रैली में शामिल होकर माहौल को बिगाड़ने की कोशिश की है।

मतीन अहमद (पूर्व विधायक सीलमपुर) ने कहा कि मैंने रैली के लिए पुलिस से अनुमति ली हुई थी। शांतिपूर्ण तरीके से रैली निकाली गई, जो भी हिंसा हुई है उसमें हमारे लोग नहीं थे। हिंसा करने वाले लोग बाहरी थे। इस तरह की ¨हसा को स्वीकार नहीं किया जाएगा। इस हिंसा से सीएए के खिलाफ चल रहा आंदोलन कमजोर होगा, इससे पुलिस और दूसरी राजनीतिक पार्टियों को बदनाम करने का मौका मिल गया है। सीएए के खिलाफ मेरा विरोध जारी रहेगा। सीलमपुर की जनता शांति बनाए रखे।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close