Breaking Newsउत्तर प्रदेशराष्ट्रीयहमारा गाजियाबाद

स्कूल खुलने का समय 9 बजे

साढ़े 9तक भी नहीं पहुंचे टीचर

क्लास रूम के गेटों पर लटके हैं ताले

गाजियाबाद। प्राथमिक विद्यालय के शिक्षकों की मनमानी का कारण ही कहेंगे कि बच्चे समय से स्कूल पहुंच जाते हैं और टीचर नहीं पहुंचते। यानी कि स्कूल के दरवाजों पर ताले लटके रहते हैं और बच्चे बाहर प्रांगण में इंतजार देखते रहते हैं कि शिक्षक कब आएंगे। भोजपुर ब्लॉक के अतरौली गांव स्थित प्राथमिक विद्यालय की ऐसी ही तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। अतरौली के ग्राम प्रधान का कहना है कि स्कूल का समय 9 बजे है जबकि अध्यापक अध्यापिका 9:30 तक भी विद्यालय नहीं पहुंचते हैं। तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि किस तरह से बच्चे स्कूल में पहुंचे हुए हैं और स्कूल के कमरों में ताले लटक रहे हैं। ऐसे शिक्षकों का वेतन काटने और समय से स्कूल आने की मांग भी ग्राम प्रधान ने की है। ग्रामीणों का आरोप है कि प्रधानाध्यापक, सहायक अध्यापक बच्चों की छुट्टी भी अपनी सहूलियत के हिसाब से पहले कर देते हैं। सोमवार को गांव के प्राथमिक विद्यालय पर छात्र- छात्राओं की कतार लगी थी। कई बच्चों के परिजन उन्हें स्कूल छोड़ने आए, लेकिन उन्हें लंबा इंतजार करना पड़ा। सुबह करीब 10 बजे तक स्कूल का ताला नहीं खुला। जानकारी होने पर ग्राम प्रधान स्कूल पहुंचे। स्कूली बच्चों और उन्हें छोड़ने आए परिजनों ने बताया कि प्राथमिक विद्यालय में किसी भी अध्यापक के आने और जाने का समय निर्धारित नहीं है। बच्चे अध्यापकों का इंतजार करते रहते हैं, लेकिन अध्यापक अक्सर दो दो घंटे लेट आते हैं। आरोप है कि निर्धारित समय से पहले ही स्कूल बंद कर अध्यापक घर चले जाते हैं।

Show More

Related Articles

Close