Breaking Newsउत्तर प्रदेशराष्ट्रीयहमारा गाजियाबाद

अपहृत अर्थव 24 घंटे में बरामद, आतिका का 1 साल बाद भी सुराग नहीं

विजय नगर थानाक्षेत्र स्थित बहरामपुर के है दोनों मामले

सुभाष चंद
गाजियाबाद। एक तरफ जहां विजयनगर पुलिस ने कंस्ट्रक्शन ठेकेदार के अपहृत बेटे को 2 दिन के भीतर ही सकुशल बरामद कर लिया है वही 1 नवंबर 2021 से लापता 4 वर्षीय आतिका का आज तक कहीं कोई सुराग पुलिस नहीं लगा सकी है। आतिका के परिजनों का कहना है कि पुलिस ने इसलिए उनका पूर्ण रूप से सहयोग नहीं किया क्योंकि वह मुस्लिम समाज से आते हैं। यदि ऐसा नहीं है तो फिर अर्थव को 2 दिन में ही कैसे पुलिस ने ढूंढ निकाला और आरोपियों को भी दबोच लिया। आतिका के पिता आबिद मलिक ने बताया कि 1 नवंबर 2021 को उनकी 4 वर्षीय पुत्री आतिका बहरामपुर अकबरपुर घर के पास से शाम के समय अचानक लापता हो गई थी। तब से लेकर आज तक काफी प्रयास किए गए मगर बच्ची का कहीं कोई सुराग नहीं लग पाया है। बच्ची अचानक लापता हो गई या उसका किसी ने अपहरण किया यह भी आज तक कोई जानकारी नहीं मिल पाई है। आतिका के ताऊ जावेद मलिक का कहना है कि पुलिस ने उनका पूर्ण रूप से सहयोग नहीं किया अन्यथा ऐसा नहीं है कि पुलिस बच्ची को बरामद ना करवा पाती। आपको बता दें कि बीते 2 दिन पूर्व विजयनगर थाना क्षेत्र में बहरामपुर गली नंबर-4 निवासी नितिन चौहान के तीन साल के बेट का अपहरण कर लिया गया था। यह जानकारी परिजनों को तब हुई जब 20 लाख रुपए की फिरौती मांगी गई। पैसा न मिलने पर बच्चे का कत्ल करने की धमकी तक दी गई थी। पुलिस ने मुठभेड़ के बाद मुख्य आरोपी सन्नी को धर दबोचा। जबकि उसका दूसरा साथी रामशरण भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। लापता आतिका के पिता आबिद मलिक व ताऊ जावेद मलिक का कहना है कि अर्थव को पुलिस ने 24 घंटे के बरामद कर लिया तो क्या उनकी पुत्री को 1 साल में भी बरामद क्यों नहीं कर पाई है।

Show More

Related Articles

Close