Breaking Newsउत्तर प्रदेशराष्ट्रीयहमारा गाजियाबाद

हाथी वाली पार्टी में बदलाव की सुगबुगाहट

 कभी भी हो सकती है जिलाध्यक्ष पद पर नए नेता की ताजपोशी 

गाजियाबाद। बसपा सुप्रीमो एवं पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने पार्टी के सांगठनिक ढांचे को मजबूती देने के लिए जहां राष्ट्रीय,प्रदेश स्तर पर कई बदलाव किए वही अब जिला संगठन में भी बदलाव की सुगबुगाहट जोरों पर है। पार्टी के विश्वस्त सूत्रों की माने तो गाजियाबाद में भी जिलाध्यक्ष के पद पर नए नेता की ताजपोशी शीघ्र होने की संभावना है। हाल ही में पार्टी कार्यालय पर हुई एक बैठक में कार्यकर्ताओं द्वारा हंगामा किया गया अंदर खाने कार्यकर्ता शमसुद्दीन राईन को पचा नहीं पा रहे हैं। पहले भी उन्हें लेकर कार्यकर्ताओं में विरोध के स्वर उठते रहे हैं। उन पर कई आरोप भी लगे। लेकिन बसपा प्रमुख मायावती ने एक बार फिर उन पर भरोसा किया और उन्हें यहां का प्रभारी बनाया लेकिन कुछ कार्यकर्ताओं को वह हजम नहीं हो रहे हैं। इसके साथ ही जिलाध्यक्ष एडवोकेट वीरेंद्र जाटव को लेकर भी कार्यकर्ताओं में अंदरखाने नाराजगी है। जिसकी शिकायत बसपा आलाकमान तक पहुंची है। बताते कि कई ऐसे मुद्दे हैं जिन्हें जिला संगठन पूरी तरह नजरअंदाज कर अपनी मनमानी कर रहे हैं। हाल ही में करीब दो दशक से बसपा के कट्टर सिपाही रहे अमृतलाल जो जिला कार्यालय पर बिना किसी स्वार्थ के सेवा दे रहे थे उन्हें हटा दिया गया। इस बात की भी तमाम कार्यकर्ताओं में नाराजगी है। नगर निकाय चुनाव सर पर है। इस बार बहन जी ने पार्टी के सिंबल पर चुनाव लड़ाने की घोषणा की है। लेकिन गाजियाबाद में चुनावी तैयारियां नजर नहीं आ रही है। एक तरफ भाजपा जहां बूथ स्तर से लेकर मंडल वार्ड और जिला स्तर पर जोरदार तैयारियों में जुटी है भाजपा के तमाम दिग्गज हर रोज निकाय चुनाव को लेकर बैठकें कर रहे हैं। मतदाता सूची में जिन लोगों के नाम नहीं है उन्हें जोड़ने के लिए घर-घर दस्तक दे रहे हैं । जबकि बसपा इन सब कामों से बहुत दूर दिख रही है। चुनावी तैयारियां न के बराबर दिख रही हैं। जिला संगठन की ऐसी तमाम खामियों के चलते कार्यकर्ता भी टूटते जा रहे हैं। बसपा समर्थक ऐसे तमाम लोग हैं जो नेताओं की कार्यशैली से खफा होकर अन्य दलों के दरवाजे पर दस्तक देने को मजबूर हैं। इन्हीं तमाम खामियों की शिकायतें ऊपर तक पहुंच रही है जिसके चलते जिला संगठन में फेरबदल करने का बसपा सुप्रीमो ने मन बनाया है। सूत्रों की माने तो निकाय चुनाव घोषणा से पूर्व जिलाध्यक्ष के पद पर किसी अन्य नेता की ताजपोशी हो सकती है और मौजूदा जिला अध्यक्ष वीरेंद्र जाटव को नई जिम्मेदारी दी जा सकती है।
Show More

Related Articles

Close