Breaking Newsउत्तर प्रदेशराष्ट्रीयहमारा गाजियाबाद

देश के सरकारी स्कूलों को 5जी मोड़ में कब लाएगी सरकार: सीमा

गाजियाबाद। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश मे 5जी नेटवर्क सेवाओं की शरुआत की है। निश्चित तौर पर 5जी के आने से इंटरनेट स्पीड 4जी के मुकाबले लगभग 10 गुना तक बढ़ जाएगी, लेकिन आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने पर भी देश के अधिकतर राज्यों में आज भी सरकारी स्कूल 1जी मोड़ से आगे नही बढ़ पा रहे है। गाजियाबाद पेरेन्ट्स एसोसिएशन की अध्यक्ष सीमा त्यागी ने कहा कि सरकारी स्कूलों में बच्चों की शिक्षा के लिए जरूरी मूलभूत सुविधाओ का भारी अभाव है। सरकारी स्कूल केवल मिड डे मिल, कॉपी, ड्रेस और जूते देने की आधी अधूरी सेवा का ही माध्यम बने हुये है। देश के सरकारी स्कूलों की बिल्डिंग सरकार को बार बार सोचने के लिए विवश कर रही है, लेकिन सरकार के पास सरकारी स्कूलों को विश्वस्तरीय बनाने के लिए समय नही है। उल्टे देश के अधिकतर राज्यों में सरकारी स्कूल तेजी से बंद हो रहे है। पिछले तीन साल की बात करे तो देश मे लगभग 62 हजार सरकारी स्कूल बंद हुये है। यूडीआईएसई की रिपोर्ट के अनुसार 2018-19 में सरकारी स्कूलों की संख्या 10 लाख 83 हजार 678थी। जो साल 2019-20 में घटकर 10 लाख 32 हजार 570 रह गई है। यूडीआईएसई की रिपोर्ट के मुताबिक सबसे ज्यादा सरकारी स्कूल उत्तर प्रदेश में ही लगभग 27 हजार सरकारी स्कूल बंद किए गए हैं। उत्तर प्रदेश में सितंबर 2018 में सरकारी स्कूलों की संख्या 1 लाख 63 हजार 142 थी जो सितंबर 2020 में घटकर 1 लाख 37 हजार 68 रह गई है। इतने सरकारी स्कूल बंद होने के बाद भी देश के अभिभावकों ने न तो केंद्र सरकार के सर्वेसर्वा और न ही राज्य सरकारों के मुख्यमंत्रियों के माथे पर चिंता का भाव देखा है। जबकि देश के बच्चों के लिये सस्ती और सुलभ शिक्षा का मार्ग देश के सरकारी स्कूलों से ही प्रशस्त होता है। साथ ही देश को विश्वगरु बनाने का मार्ग भी देश की मजबूत शिक्षा व्यवस्था से ही सम्भव है। अब समय आ गया है कि देश के प्रधानमंत्री के नेतृत्व में देश के सरकारी स्कूल जो आज भी 1जी मोड़ में है उनका जीर्णोद्धार कर उनको 5जी मोड़ में लाया जाए।

Show More

Related Articles

Close