Breaking Newsउत्तर प्रदेशराष्ट्रीयहमारा गाजियाबाद

प्रदेश सरकार की पर्यटन नीति इको टूरिज्म को दे रही है बढ़ावा

गाजियाबाद। उत्तर प्रदेश में अनेक ऐसे पर्यटन केंद्र हैं जो भारतीय संस्कृति को समेटे हुए हैं जिनमें परंपरा से लेकर पौराणिकता की झलक देखने को मिलती है।
उत्तर प्रदेश में पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं जिसे दृष्टिगत रखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश पर्यटन नीति घोषित की है जिसमें इको टूरिज्म को बढ़ावा दिया जाएगा। इको टूरिज्म के तहत प्राकृतिक एवं वन क्षेत्र में मौजूद रमणीक स्थलों पर पर्यटन की दृष्टि से संबंधित क्षेत्रों का विकास किया जाएगा। इको टूरिज्म पालिसी के तहत संभावित क्षेत्रों में स्थानीय लोगों के सहयोग से प्रकृति को नुकसान पहुंचाए बिना पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए आवश्यक सुविधाओं का विकास किया जा रहा है। प्रदेश सरकार की इस नीति से स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा, साथ ही स्थानीय स्तर पर उत्पादित विभिन्न प्रकार के कुटीर उद्योगों की विभिन्न वस्तुओं का विक्रय व राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनेगी। सरकार की एक जनपद एक उत्पाद नीति के तहत जिला व क्षेत्र विशेष की उत्पादित वस्तुओं की पहचान भी सुनिश्चित की जाएगी।
प्रदेश सरकार आत्मनिर्भर भारत अभियान को बढ़ावा देने के लिए इको टूरिज्म को बढ़ावा दे रही है। इस नीति के अंतर्गत ग्रामीण विकास थीम पर प्रकृति के नजदीक पर्यटकों को लाया जा रहा है। प्रदेश में वन, जल, पहाड़ी और हरे वाले क्षेत्रों से भरपूर नदियों व प्राकृतिक क्षेत्रों का दोहन किया जाएगा। इन क्षेत्रों में पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए सुदृढ़ नीति बनाई जा रही है। प्रदेश में धार्मिक पर्यटन के लिए रामायण सर्किट, बौद्ध सर्किट, महाभारत सर्किट वह शक्ति सर्किट आदि सुविधा युक्त मार्ग प्रशस्त किया गया है। इस कार्य में संबंधित क्षेत्र के पर्यटकों को प्रकृति को नुकसान पहुंचाए बिना भ्रमण की सुविधा होगी। इसी तरह प्रदेश के चंद्रप्रभा वन्यजीव अभयारण्य में टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए चंदौली, मिर्जापुर वसूल बदल जनपदों के प्राकृतिक धरोहर का प्रयोग किया जा रहा है। प्रदेश सरकार की पर्यटन नीति के अंतर्गत पर्यटन इकाइयों को वित्तीय प्रोत्साहन की व्यवस्था की गई है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close