Breaking Newsउत्तर प्रदेशराष्ट्रीयहमारा गाजियाबाद

अवेकनिंग इंडिया ने उठाया 101 कान के पर्दों के ऑपरेशन का खर्च ।

(७/४/२२ से १७/४/२२ तक चलने वाले फ़्री कान के पर्दों का ऑपरेशन का खर्च अवकनिंग इंडिया फ़ाउंडेशन व हर्ष ई.न.टी अस्पताल ने उठाया। माननिय श्री योगी आदित्य नाथ जी के दोबारा मुख्य मंत्री बनने की ख़ुशी में डॉक्टर ब्रजपाल त्यागी ने यह निर्णय लिया था। १०१ मरीज़ सम्पूर्ण भारत से आएँ थे जैसे हरियाणा ,दिल्ली,उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश , बिहार,राजस थान ,७ April के दिन अस्पताल का २५ वा स्थापना दिवस भी था।
हर्ष ई.न टी अस्पताल १९९७ से कान ,नाक गले के इलाज की सेवाए दे रहा है । २०१५ में असपताल ने ५५ कान के पर्दे १८ घंटे में लगातार बनाकर अपना नाम लिम्का बुक ओफ़ रेकर्ड्ज़ में दर्ज कराया था । उसके बाद तीन साल लगातार ग़ाज़ियाबाद जेल में कान के पर्दों का ऑपरेशन करके संसार का पहला ई . न. टी असपताल बना ।२०१९ में १०० कान केपर्दे बनाकर वर्ल्डबुकमें अपना नाम किया ।२०/२१ में कोविड के चलते फ़्री ऑपरेशन बंद करने पड़े । अब २०२२ में १०१ कान के पर्दे फ़्री में बनाकर डॉक्टर बी पी त्यागी ने अपने ही १०० ऑपरेशन का रेकर्ड तोड़ा । ये रेकर्ड बनाकर हर्ष ई .न.टी संसार का पहला ई. न टी अस्पताल बन गया है । डॉक्टर बी पी त्यागी (सी ई ओ हर्ष ई .न टी अस्पताल ),डॉक्टर नियति (director अवेकनिंग इंडिया ,डॉक्टर मानिका ,डॉक्टर अर्जुन ,डॉक्टर अभिषेक, डॉक्टर अरविंद डोगरा , डॉक्टर असद , डॉक्टर अरशद , डॉक्टर सैफि , डॉक्टर अमित (जमसेदपुर) ,डॉक्टर सागर (वर्धा ) डॉक्टर संजीव (ग़ाज़ियाबाद) ,डॉक्टर प्रसून (अलीगढ़),सेखर मिश्रा , दीपंकर , ललित, मिन्नी,सचिन ,गौरव, रेशमा व अस्पताल के समस्त स्टाफ़ने बढ़ चढ़ कर सहयोग किया । सभी पत्रकार भाई व बहनो का प्रचार मेन काफ़ी सहयोग रहा । हर्ष ई .न टी अस्पताल सबका तहें दिल से सुक्रिया करता है ओर उम्मीद करता है की आगे भी इसतरह के सामाजिक कार्य करने की भगवान शक्ति प्रदान करते रहे ।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close