Breaking Newsउत्तर प्रदेशराष्ट्रीयहमारा गाजियाबाद

स्कूलों में कोरोना संक्रमितों की संख्या में दिन-प्रतिदिन व्रद्धि होने पर ऑल स्कूल पेरेंट्स एसोसिएशन ने चिंता जतायी

स्कूलों में पाए जा रहे कोरोना संक्रमितों पर अत्यधिक ध्यान दिए जाने हेतु जिला अधिकारी व जिला विद्यालय निरीक्षक को पत्र दिया

कोरोना से निपटने के लिए बच्चों,शिक्षकों व स्कूल कर्मियों का शत-प्रतिशत वेक्सिनेशन कराने व क्लासों को सेनेटाइज कराए जाने पर दिया जाए जोर

यदि जरूरत पड़े तो स्कूलों को दो पालियों (डबल शिफ्ट) में खोला जाए जिससे कि सामाजिक दूरी का सही से पालन हो सके

स्कूल बंद करने या ऑनलाइन पढ़ाई कराए जाने का निर्णय प्रशासनिक स्तर से लिया जाए यदि स्कूलों में ऑनलाइन पढ़ाई करायी जाती है तो शासन से निर्धारित फ़ीस लिए जाने के आदेश पारित किए जाए

स्कूलों में कोरोना संक्रमितों के मिलने पर ऑल स्कूल पेरेंट्स एसोसिएशन ने चिंता जाहिर की है।तथा इस विषय पर जिला अधिकारी को पत्र भेजा है जिसकी प्रति जिला विद्यालय निरीक्षक को भी दी गयी है।
अपने भेजे गए पत्र के बारे में बताते हुए एसोसिएशन के राष्ट्रीय महासचिव सचिन सोनी ने बताया कि ईश्वर की ऐसी कृपा रही कि कोरोना के प्रथम, द्वितीय व तृतीय चरण में भी हमारे बच्चे पूरी तरह सुरक्षित रहे तथा फ़रवरी 2022 में स्कूलों में भौतिक रूप से बच्चों के आने पर भी किसी तरह की कोई अप्रिय घटना गाजियाबाद के स्कूलों में घटित नहीं हुई। लेकिन अप्रैल माह में नया सत्र (वर्ष 2022-23) आरंभ होने के पश्चात स्कूलों द्वारा परीक्षा परिणाम घोषित, ड्रेस, किताबें बेचे जाने व शासन से फ़ीस वृद्धि किए जाने का आदेश पारित हो जाने के तुरंत बाद ना जाने स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को ना जाने किसकी नजर लग गयी कि एक के बाद एक स्कूलों में संक्रमण की संख्या में वृद्धि होने लगी है। कुछ स्कूलों ने भौतिक पढ़ाई बंद करके ऑनलाइन आधार पर पढ़ाई पूरी करायी है।
उन्होंने कहा कि स्कूलों में पाए जाने वाले संक्रमण को अत्यधिक गम्भीरता से लिया जाना चाहिए। चूँकि दो वर्षों से स्कूल न जाने के कारण बच्चों की पढ़ाई व उनके शारीरिक/मानसिक विकास पर भी असर पड़ा है।
अतः स्कूल में कोरोना संक्रमण पाए जाने की स्थिति में स्कूल क्लास को पूरी तरह से सेनेटाइज कराने की व्यवस्थता स्कूल प्रबंधन द्वारा की जाए। स्कूल स्टाफ व बच्चों का शत प्रतिशत वेक्सिनेशन कराया जाए। जिससे कि किसी भी अनहोनी से निपटा जा सके। स्कूलों में सामाजिक दूरी का विशेष ध्यान दिया जाए जिसके लिए स्कूलों को दो पालियों में संचालन की व्यवस्थता भी स्कूल प्रबंधकों द्वारा की जा सकती है।
यदि स्कूलों में संक्रमण बढ़ने पर बच्चों व स्कूली स्टाफ़ के स्वास्थ्य को दृष्टिगत रखते हुए यदि स्कूल बंद कर ऑनलाइन क्लास के आधार पर बच्चों की पढ़ाई पूरी करायी जाती है। तो शासन से जारी आदेश का अनुपालन करते हुए बच्चों से केवल उन मदों में फ़ीस लिए जाने के आदेश प्रशासनिक स्तर से जारी होने चाहिए। जिन मदों को ऑनलाइन पढ़ाई में उपयोग में लाया जा रहा है।

प्रतिलिपि:जिला विद्यालय निरीक्षक/सचिव जिला शुल्क नियामक समिति जनपद,गाजियाबाद

सचिन सोनी
(राष्ट्रीय महासचिव)
ऑल स्कूल पेरेंट्स एसोसिएशन

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close