Breaking Newsउत्तर प्रदेशराष्ट्रीयहमारा गाजियाबाद

कुत्ते हुए पागल लोगो को कर रहे हैं घायल. टीका जरूरी डॉ राधेश्याम दहिया

मुरादनगर। सावधान छोटे बच्चों को अकेले घर से बाहर न जाने दें गर्मी के बढ़ते पारे के कारण कुत्ते पागल होने लगे हैं और हिंसक हो लोगों पर हमले कर रहे हैं। छोटे बच्चों पर उनके घातक वार जानलेवा साबित हो सकते हैं। ग्रामीण शहरी क्षेत्रों में कुत्तों द्वारा लोगों पर हमलों के मामले बढ़ रहे हैं किसी को काटकर घायल कर रहे हैं बच्चों को भंबोड कर मांस नोच कर लहूलुहान हालत में पहुंचा रहे हैं जिसके कारण लोगों में कुत्तों के प्रति डर बढ़ रहा है। कुछ महानगरों को छोड़कर नगर पालिका तथा ग्रामीण क्षेत्र से कुत्तों को पकड़ने की रोकथाम की कोई व्यवस्था नहीं है आवारा घूमने वाले कुत्तों की एक बड़ी संख्या है गर्मी के कारण कुछ कुत्ते पागल होने लगे हैं जिसके कारण लोग कुत्तों को देख कर ही डर रहे हैं कि सामने से आ रहा कुत्ता पागल न हो पीछे से किसी के चलने का एहसास होते ही कुत्ते का डर आदमी को एकदम उल्टा ही घुमा देता है। जलालपुर रोड निवासी सतीश, का 5 वर्षीय पुत्र गली में घर के सामने ही खेल रहा था अचानक कुत्ते ने उस पर हमला बोलकर गंभीर रूप से घायल कर दिया ।ईदगाह निवासी मोमिन की पुत्री आयशा 8 वर्ष को गंभीर घायल कर दिया रावली कलां निवासी अमित, बाइक से कहीं जा रहा था रास्ते में कुत्ते ने उसका पैर नोच लिया। इसके अलावा दर्जनों लोगों बच्चों को कुत्तों ने निशाना बनाया है। कुत्तों के शिकार बने लोगों को एंटी रेबीज के टीके लगवाए जाने आवश्यक समझे जाते हैं जिन्हें सरकारी अस्पतालों में टीका नहीं मिलते उन्हें बाजार से खरीद कर महंगे टीके लगवाने पडते हैं ।इस बारे में डॉक्टर राधेश्याम दहिया ने बताया कि कुत्ता काटने के बाद निर्धारित टीका अवश्य लगवाना चाहिए अन्यथा भविष्य में उसके दुष्परिणाम सामने आ सकते हैं। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में टीका उपलब्ध है या नहीं इसके लिए प्रभारी से संपर्क करने का प्रयास किया लेकिन संपर्क नहीं हो सका। राधेश्याम कॉलोनी निवासी विजय ने बताया कि उसकी पत्नी रजनी, घर के बाहर झाड़ू लगा रही थी उसी दौरान अचानक कुत्ते ने उस पर हमला कर दिया शोर सुनकर वह बचाने के लिए पहुंचा उसको भी कुत्ते ने दांत गड़ा दिए।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close