Breaking Newsउत्तर प्रदेशराष्ट्रीयहमारा गाजियाबाद

कोविड के इलाज की तैयारियों को लेकर हुई मॉकड्रिल

स्वास्थ्य विभाग के सचिव ने किया संयुक्त जिला चिकित्सालय का निरीक्षण

गाजियाबाद। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम में सोमवार को कोविड के इलाज की तैयारियों को लेकर मॉकड्रिल की गयी। इस मौके पर स्वास्थ्य विभाग के सचिव प्रांजल यादव संजय नगर स्थित संयुक्त जिला चिकित्सालय का निरीक्षण किया। प्रांजल यादव ने मॉकड्रिल के अलावा संयुक्त जिला चिकित्सालय में उपलब्ध अन्य स्वास्थ्य सेवाओं का भी जायजा लिया और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को जरूरी दिशा-निर्देश भी दिए। उन्होंने बताया मॉकड्रिल में भी सब कुछ संतोष जनक रहा। संयुक्त जिला चिकित्सालय के निरीक्षण के दौरान मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डा. भवतोष शंखधर, एसीएमओ प्रशासन डा. सुनील त्यागी और संयुक्त जिला चिकित्सालय के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. विनोद चंद्र पांडेय आदि मौजूद रहे। मॉकड्रिल के दौरान करीब दस वर्ष की एक बच्ची को कोविड संक्रमण के चलते गंभीर हालत में संयुक्त जिला चिकित्सालय लाया गया। अस्पताल में उसे भर्ती करने से लेकर तमाम मेडिकल सुविधाएं दिए जाने की रिहर्सल की गयी। इस दौरान सचिव ने ऑक्सीजन प्लांट और पीकू-नीकू वार्ड का भी निरीक्षण किया। इसके साथ ही वह डायलिसिस सेंटर, स्टोर और पैथोलॉजी लैब भी देखने पहुंचे। उन्होंने मौके पर सीएमएस को निर्देश दिए कि लैब को और समृद्ध बनाया जाए ताकि तमाम एडवांस जांच यहां हो सकें और आम जनता को उसका लाभ मिल सके।
सीएमओ डा. भवतोष शंखधर ने बताया संयुक्त जिला चिकित्सालय के अलावा कोविड के लिए शासन की ओर अधिगृहीत किए गए संतोष अस्पताल, लोनी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, मुरादनगर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, भोजपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और डासना सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भी सफलतापूर्वक मॉकड्रिल संपन्न हुई। लोनी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर एसीएमओ डा. विश्राम सिंह की देखरेख में हुई मॉकड्रिल के दौरान ऑक्सीजन प्लांट की सक्रियता, दवाओं की उपलब्धता और अन्य ढांचागत सुविधाओं को परखा गया।
मॉकड्रिल के लिए संयुक्त जिला चिकित्सालय पहुंचे सचिव प्रांजल यादव ने चिकित्सालय के निरीक्षण के दौरान ड्रिस्टिक्ट अर्ली इंटरवेंशन सेंटर (डीआईसी) भी देखा। सेंटर को देखकर वह काफी उत्साहित नजर आए। उन्होंने सेंटर पर उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी लेने के साथ ही सेंटर की कार्यप्रणाली को बड़े विस्तार से परखने का प्रयास किया। सेंटर की प्रभारी डा. रुचि मिश्रा ने बताया-सेंटर में हर सप्ताह करीब 25 नए और 35 पुराने बच्चे फालोअप के लिए आते हैं। यहां जन्मजात विकृतियों का निशुल्क उपचार ऑक्यूपेशनल थेरेपी के जरिए किया जाता है। इसके अलावा यदि किसी बच्चे को ऐसी कोई परेशानी है जिसका उपचार सेंटर में उपलब्ध नहीं है तो उसे रेफर किया जाता है ताकि बच्चों को निशुल्क उपचार उपलब्ध कराया जा सके।
उन्होंने बताया बोतल से दूध पीने के चलते कई बच्चों के दांत खराब हो जाते हैं, ऐसे बच्चों का भी उपचार सेंटर पर किया जाता है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close