Breaking Newsउत्तर प्रदेशराष्ट्रीयहमारा गाजियाबाद

बीएचएल हरिद्वार में ट्रेड यूनियनों द्वारा 8 मार्च अंतर्राष्ट्रीय मजदूर महिला दिवस विषय पर विचार गोष्ठी की गई।

हरिद्वार / बी एच ई एल सेक्टर 4 हरिद्वार में विभिन्न सामाजिक संगठनों प्रगतिशील महिला एकता केंद्र इंकलाबी मजदूर केंद्र भेल मजदूर ट्रेड यूनियन प्रगतिशील भोजन माता संगठन समेत अन्य ट्रेड यूनियनों द्वारा 8 मार्च अंतर्राष्ट्रीय मजदूर महिला दिवस विषय पर विचार गोष्ठी की गई और उसके उपरांत एक जुलूस भी निकाला गया l
इंकलाबी मजदूर केन्द्र की रंजना ने कहा कि8 मार्च अंतरराष्ट्रीय मजदूर महिला दिवस सामाजिक -राजनीतिक आंदोलनों और क्रांतियों में मजदूर – मेहनतकश महिलाओं की गौरवशाली भूमिका को ही याद करने का दिन हैl यह पूरी दुनिया में मनाया जाने वाला मजदूर- मेहनतकश महिलाओं का त्यौहार हैl इस दिन वे अतीत के आंदोलनों क्रांतियों में अपनी पूर्वज बहनों के बलिदानों को याद करती हैंl और एक ऐसा समाज बनाने का संकल्प लेती है जहां पितृसत्ता के बंधनों से महिलाएं पूरी तरह से आजाद हो और जहां पूंजीवादी शोषण उत्पीड़न का नामों-निशां भी ना हो l
प्रगतिशील महिला एकता केन्द्र की हरिद्वार सचिव दीपा ने कहा किमहिलाओं को आज जितने भी अधिकार हासिल हैं वे किसी पूंजीवादी सत्ता ने खैरात में नहीं दिए हैं बल्कि उन अधिकारों की प्राप्ति के लिए महिलाओं के जुझारू खूनी संघर्षों का इतिहास है
भेल मजदूर ट्रेड यूनियन के अध्यक्ष राजकिशोर ने कहा कि आज पुनः मजदूर महिलाएँ पुरुष मजदूरों के साथ एकजुट होकर शोषण मुक्त समाज समाजवाद के संघर्षों को आगे बढाने में अपनी भूमिका निभा रहे हैं
क्रांतिकारी लोक अधिकार संगठन के संयोजक नासिर अहमद ने कहा किहमारा भारतीय समाज तो महिलाओं के लिए बेहद असुरक्षित हो चुका है l उदारीकरण की नीतियों के साथ पतित उपभोक्तावादी संस्कृति का खुला प्रसार साथ ही समाज में मौजूद पिछड़े सामंती अवशेष महिलाओं के लिए बेहद खौफनाक परिस्थितियों को जन्म दे रहे हैंl यहां लड़के की चाहत में कोख में ही बच्चियों की हत्या का ग्राफ लगातार बढ़ रहा हैl
प्रगतिशील भोजन माता संगठन की सोनिया ने कहा कि महिलाओं को आज महिलाओं को एकजुट होकर इस पूंजीवादी व्यवस्था के के खिलाफ आगे आना होगा! प्रगतिशील महिला एकता केन्द्र की नीशा ने कहा महिलाओं ने आन्दोलनों में शानदार भूमिका निभाई है!

राजा बिस्कुट के मजदूर प्रतिनिधि बिशन पुरी ने मजदूर वर्ग की मुक्ति के लिए जाति ,धर्म, क्षेत्र की संकीर्ण मानसिकता से उठना होगा!
गोष्ठी एवं जुलूस में दीपा प्रियंका, निशा, मालती, पूनम, दीपमाला,
पंकज, राजू, कुलदीप, विजय, रंजना, रश्मि, राजकिशोर, अवधेश, अरविंद, ,बच्चा प्रसाद, मोहन प्रसाद, रजनीश, ब्रज मोहन, ब्रिजेश, सुनिल रावत, सोनिया, सुनिता, निर्मला, पूनम आदि उपस्थित रहे!

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close