Breaking Newsउत्तर प्रदेशराष्ट्रीयहमारा गाजियाबाद

विचाराधीन कैदियों के लिए कत्लगाह बन रही है तिहाड़ जेल

जीशान की तिहाड़ जेल में हुई मौत चीख चीख कर कर रही है उसके ऊपर हुए जुल्म की कहानी बयां

आप अभी तक
गाजियाबाद। दिल्ली के प्रीत विहार में रहने वाले एक साधारण मुस्लिम परिवार को यह पता नहीं था कि चोरी के आरोप में गिरफ्तार किया गया उनका पुत्र या भाई उन्हें जीवित नहीं मिलेगा। चोरी के आरोप में जेल भेजे गए जीशान नामक युवक के शरीर पर मिले निशान जेल में हुए उसके साथ जुल्म की कहानी बयान कर रहे हैं। जीशान की माता का कहना है कि लॉकडाउन से पहले वह और उनके परिवार के अन्य सदस्य जीशान से तीन बार मिलने तिहाड़ जेल गए थे जहां वह पूरी तरह स्वस्थ मिला था। चोरी के आरोप में जेल भेजे जाने से पहले भी वह कभी बीमार नहीं हुआ था। इसके बाद अचानक ही 14 फरवरी को उनके पास एक सिपाही का फोन आया कि जीशान बीमार है और दीनदयाल अस्पताल में भर्ती है। जीशान की मां और उसकी दो बहने जब अस्पताल पहुंची तो उन्हें पता चला कि जीशान अब इस दुनिया में नहीं है।
जीशान की मौत की जानकारी मिलते ही परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। जीशान की मां ने बताया कि जो पुलिस और तिहाड़ जेल प्रशासन उसके बीमार होने के कारण मौत की बात बता रहा है वह एकदम झूठ है। उनका कहना है कि जीशान के दोनों हाथ और पैर टूटे हुए थे। इसके अलावा जीशान के कमर, माथा, छाती और करवट पर धारदार हथियारों के निशान थे जिनसे पता चलता था कि उसे जेल में बहुत बुरी तरह से मारा गया था।
उनके बार बार कहने पर भी जीशान का पोस्टमार्टम ठीक से नहीं कराया गया और उनके बुढ़ापे का सहारा छीन लिया गया। जीशान के परिजनों का कहना है कि तिहाड़ जेल में उसकी हत्या की गई जिसकी जांच की जानी चाहिए। सामाजिक संगठन पैगाम ए इंसानियत की टीम भी जीशान के घर पहुंची जहां उन्होंने सारी जानकारी लेने के बाद इस मामले को दिल्ली प्रशासन के सामने उठाया है। तिहाड़ जेल में किसी विचाराधीन कैदी की मौत का यह अकेला मामला नहीं है इससे पूर्व भी तिहाड़ जेल में अनेक विचाराधीन कैदी मौत की नींद सो चुके हैं। कुछ दिन पूर्व ही वहां गैंगस्टर अंकित गुर्जर की भी हत्या की कर दी गई थी। अंकित गुर्जर की हत्या के मामले में भी लीपापोती कर दी गई। अंकित गुर्जर की हत्या के मामले में इतना जरूर हुआ था कि तिहाड़ जेल के कई वार्डन और पुलिसकर्मी ट्रांसफर किए गए थे। जीशान की मौत के मामले में तिहाड़ जेल प्रशासन पूरी तरह चुप्पी साधे हुए हैं।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close