Breaking Newsउत्तर प्रदेशराष्ट्रीयहमारा गाजियाबाद

गिले शिकवे भुला कर सुनील शर्मा के पक्ष में एकजुट होने लगे हैं भाजपा कार्यकर्ता

आप अभी तक
गाजियाबाद। भारतीय जनता पार्टी से सुनील शर्मा को साहिबाबाद से उम्मीदवार घोषित किए जाते ही वहां कई मजबूत गुटों में उनका विरोध शुरू हो गया था। विरोध की बात सामने आते ही खुद सुनील शर्मा और पार्टी नेतृत्व सक्रिय हो गया और धीरे-धीरे आप सभी नाराज कार्यकर्ताओं को गिले-शिकवे भुलाकर एकजुट कर दिया गया है।
सुनील शर्मा का सबसे अधिक विरोध उत्तरांचल और पूर्वांचल समाज के बीच हुआ था। विरोध के स्वर इतनी तेज थे कि पूर्वांचल के मूल निवासी सच्चिदानंद राय निर्दलीय चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे। पार्टी नेतृत्व ने श्री राय को समझा कर पार्टी के इस बड़े मतदाता वर्ग को गिले शिकवे भुलाने के लिए तैयार कर लिया है। इसके अलावा भी सुनील शर्मा से नाराज अन्य कार्यकर्ताओं की बात सुनकर उन्हें पार्टी हित की बात बताई गई है। मतभेद सुलझाने के साथ ही सुनील शर्मा के चुनाव प्रचार ने तेजी पकड़ ली है। साहिबाबाद विधानसभा क्षेत्र जिले की ऐसी विधानसभा है जहां सवर्ण मतदाताओं की संख्या अन्य वर्ग के मतदाताओं पर भारी पड़ती है।
भाजपा कार्यकर्ताओं का कहना है कि अभी चुनाव अपने चरम पर नहीं पहुंचा है और चरम पर पहुंचते-पहुंचते भाजपा के मूल मतदाता सभी मतभेद भुलाकर मुख्यमंत्री योगी और प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व को मजबूत करने के लिए सुनील शर्मा को वोट करेंगे।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close