Breaking Newsउत्तर प्रदेशराष्ट्रीयहमारा गाजियाबाद

 राजनीतिक पृष्ठभूमि के धनी है जिले के कई प्रत्याशी


मुरादनगर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे सपा रालोद गठबंधन के प्रत्याशी पंडित सुरेंद्र कुमार मुन्नी की पारिवारिक पृष्ठभूमि राजनीतिक रही है। उनके पिता स्वर्गीय प्यारेलाल शर्मा गाजियाबाद से विधायक रहे हैं जो आम जनता के बीच बेहद लोकप्रिय थे। खुद सुरेंद्र कुमार मुन्नी गाजियाबाद से विधायक रहे हैं। यहां से बसपा प्रत्याशी हाजी अयूब इदरीसी का राजनीतिक इतिहास नहीं है वह पहली बार चुनाव मैदान में आए हैं। यहां से कांग्रेस प्रत्याशी विजेंद्र यादव पिछले 32 साल से गाजियाबाद की राजनीति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते रहे हैं। विभिन्न पदों पर रहे विजेंद्र यादव इस समय कांग्रेश के गाजियाबाद जिला अध्यक्ष हैं।
गाजियाबाद: गाजियाबाद विधानसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी अतुल गर्ग की पारिवारिक राजनीतिक पृष्ठभूमि रही है। उनके पिता स्वर्गीय दिनेश चंद गर्ग गाज़ियाबाद से विधानसभा चुनाव लड़ने के साथ-साथ वे दो बार शहर से महापौर रहे हैं। दिनेश चंद गर्ग गाजियाबाद के पहले चार्टर्ड अकाउंटेंट थे। खुद अतुल गर्ग पिछली विधानसभा में चुनाव लड़कर पहुंचे और राज्य मंत्री बनने में सफल रहे। इस बार वे फिर भाजपा प्रत्याशी के रूप में मैदान में है। कांग्रेस प्रत्याशी सुशांत गोयल की थी राजनीतिक पृष्ठभूमि काफी मजबूत रही है। उनके पिता स्वर्गीय सुरेंद्र प्रकाश गोयल गाजियाबाद सिटी बोर्ड के चेयरमैन रहने के साथ-साथ कांग्रेस के प्रमुख स्तंभों में रहे हैं। वह गाजियाबाद से विधायक और हापुर गाजियाबाद सीट से सांसद भी रहे हैं। सुशांत गोयल पहली बार चुनाव मैदान में आए हैं। सपा रालोद गठबंधन के प्रत्याशी एडवोकेट विशाल वर्मा ने राजनीति में पहली बार कदम रखा है। विशाल वर्मा की थी मजबूत पारिवारिक राजनीतिक पृष्ठभूमि है। उनके चाचा योगेश वर्मा मेरठ के हस्तिनापुर सीट से विधायक रहे हैं और इस बार भी सपा प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ रहे हैं। विशाल वर्मा की चाची सुनीता वर्मा मेरठ की महापौर है। बहुजन समाज पार्टी की स्थिति यहां इस सीट पर अभी साफ नहीं है। घोषित प्रत्याशी सुरेश बंसल बीमारी के कारण चुनाव मैदान से हट रहे हैं, उनकी जगह है अभी नया प्रत्याशी घोषित नहीं किया गया है।
साहिबाबाद सीट: साहिबाबाद विधानसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी सुनील शर्मा पिछली विधानसभा में यहां से विधायक रह चुके हैं। इससे पूर्व भी उन्होंने साहिबाबाद सीट से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ा था। सपा रालोद गठबंधन के प्रत्याशी अमरपाल शर्मा यहां से बसपा प्रत्याशी के तौर पर विधायक का चुनाव जीते थे। पिछली बार इसी सीट से उन्होंने कांग्रेसी उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ा था जिसमें उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। इस बार वे समाजवादी पार्टी में है और सपा रालोद गठबंधन के प्रत्याशी है। बसपा ने यहां से मुरादनगर क्षेत्र के गांव खिमावती के रहने वाले अजीत सिंह पाल को प्रत्याशी बनाया है। इससे पहले अजीत सिंह पाल में कोई चुनाव नहीं लड़ा है। अजीत सिंह पाल बसपा सरकार में दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री रहे हैं। असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व वाली एआई एम आई एम ने इस सीट से सपा छोड़कर आए मनमोहन झा गामा को मैदान में उतारा है। कांग्रेस ने अभी तक यहां से अपने पत्ते नहीं खोले हैं।
लोनी: लोनी विधानसभा सीट से सपा रालोद गठबंधन प्रत्याशी के तौर पर पूर्व विधायक मदन भैया मैदान में है। मदन भैया का क्षेत्र में मजबूत जनाधार है और वह भली प्रकार जाने जाते हैं। भाजपा ने एक बार फिर से पिछली बार विधायक रहे नंदकिशोर गुर्जर को अपना प्रत्याशी घोषित किया है। नंदकिशोर गुर्जर ने गाजियाबाद शहर के शंभू दयाल डिग्री कॉलेज से छात्र नेता के तौर पर राजनीति की शुरुआत की थी। वे तब चर्चाओं में आए थे जब उन्होंने मेरठ तिराहे पर स्थित ईसाईयों के कब्रिस्तान में मौजूद अंग्रेजों की खबरें उखाड़ दी थी। तब नंदकिशोर गुर्जर और उनके साथी यतेंद्र नागर को जेल भी जाना पड़ा था। कांग्रेस ने यहां से पहली बार चुनाव लड़ रहे यामीन मलिक को प्रत्याशी बनाया है जबकि बसपा ने भी पहली बार चुनाव लड़ रहे आकिल पावी को मैदान में उतारा है।
मोदीनगर: भारतीय जनता पार्टी ने इस सीट पर पिछली विधानसभा में विधायक रही डॉ मंजू शिवाच को प्रत्याशी घोषित किया है। डॉ मंजू शिवाच और उनके पति देवेंद्र शिवाच दोनों ही डॉक्टर हैं जिनका मोदीनगर में अस्पताल है। सपा रालोद गठबंधन ने यहां से पूर्व विधायक सुदेश शर्मा को अपना प्रत्याशी घोषित किया है। सुदेश शर्मा लंबे समय से राजनीति में है। वे मोदी नगर पालिका परिषद के चेयरमैन रहने के साथ-साथ यहां से विधायक भी रह चुके हैं। बसपा ने इस सीट पर पार्टी में लंबे समय से कार्यरत डॉ पूनम गर्ग को प्रत्याशी बनाया है। डॉक्टर पूनम गर्ग कोई राजनीतिक पृष्ठभूमि नहीं है और वे पहली बार चुनाव मैदान में है। कांग्रेस ने अभी तक यहां से अपना प्रत्याशी घोषित नहीं किया है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close