Breaking Newsउत्तर प्रदेशराष्ट्रीयहमारा गाजियाबाद

जीपीए ने प्रधानमंत्री जी से लगाई शिक्षा के व्यापार पर रोक लगाने की गुहार

ट्वीटर बना सस्ती और सुलभ शिक्षा के अधिकार की आवाज उठाने का सहारा

 

 

गाजियाबाद पेरेंट्स एसोसिएशन ने सोशल मीडिया के सबसे बड़े माध्य्म ट्विटर का सहारा लेते हुए देश के प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री जी से शिक्षा के व्यापार पर रोक लगाने सहित देश एवम प्रदेश के सरकारी स्कूलों को बेहतर करने की मांग उठाई है अभिभवको ने स्लोगन लिखे पोस्टर लेकर शिक्षा के मुद्दे पर प्रधानमंत्री एवम मुख्यमंत्री जी का ध्यान आकर्षित करने का प्रयास किया है जिसमे मोदी / योगी जी सुनो पुकार अभिभावको पर हो रहा अत्याचार , शिक्षा माफियाओ को लूट की छूट अगर सत्ता की मजबूरी है तो शिक्षा का मुद्दा चुनाव में उठाना अब जरूरी है ,अभिभावको का एक ही नारा सस्ती और सुलभ शिक्षा का अधिकार वापस दो हमारा के नारे सहित ट्वीटर के माध्य्म से आवाज उठाई है अभिभावको का कहना है जब दिल्ली के सरकारी स्कूल बेहतर हो सकते है तो उत्तर प्रदेश के सरकारी स्कूल क्यो नही जीपीए की अध्य्क्ष सीमा त्यागी और सचिव अनिल सिंह ने कहा कि देश एवम प्रदेश के अभिभावक शिक्षा के बढ़ते व्यापार से त्रस्त है प्रदेश सरकार निजी स्कूलों के दबाव में काम कर रही है जिसका जीता जागता उदाहरण कोरोना वैश्विक महामारी में देखने को मिला जब प्रदेश सरकार की तरफ से अभिभावको को कोई मदद नही मिली उल्टे निजी स्कूलों को पेरेंट्स से लूट की खुली छुट दी गई है प्रदेश के अभिभावक प्रदेश के सरकारी स्कूलों को बेहतर बनाने की मांग कर रहे है जिससे कि पेरेंट्स को बेहतर विकल्प मिल सके अभिभावक चाहते है कि प्रदेश के प्रत्येक जिले में सीबीएसई से मान्यताप्राप्त सरकारी स्कूल खोले जाये इस कोरोना काल मे निजी स्कूलों की असलियत देख कर अभिभावक सरकारी स्कूलो की तरफ मुँह कर रहे है अगर केंद्र सरकार एवम प्रदेश सरकार सरकारी स्कूलों को बेहतर सुविधाओ से सुसज्जित करने एवम इनका जीर्णोद्धार करने की दृढ़ इच्छाशक्ति दिखाए तो काफी हद तक निजी स्कूलों की मनमानी लूट पर लगाम लगाई जा सकती है और देश एवम प्रदेश के प्रत्येक बच्चे को सस्ती एवम सुलभ शिक्षा के अधिकार का सपना पूरा किया जा सकता है जीपीए को उम्मीद है कि देश के यशस्वी प्रधानमंत्री एवम मुख्यमंत्री जी अभिभावको की मांग का सज्ञान ले देश के बच्चों के हित मे निर्णय लेंगे

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close