Breaking Newsउत्तर प्रदेशमुरादनगरराष्ट्रीय

श्मशान घाट पीड़ितों ने दी आज से भूख हड़ताल की चेतावनी

मुरादनगर । महिला आंदोलनकारियों को सरकार से अभी तक कोई न्याय नहीं मिला है इसलिए 15 दिसंबर से भूख हड़ताल शुरू करने की घोषणा से आंदोलनकारी पीछे हटने को तैयार नहीं है 15 दिसंबर बुधवार से आंदोलन स्थल पर उपवास शुरू कर दिया जाएगा। विभिन्न राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधि धरने को समर्थन दे चुके हैं अब पीड़ितों के साथ सामाजिक संगठन भी आ रहे हैं। उत्थान एक नई पहल से जुड़ी महिला स्वयंसेवी संगठन ने आंदोलनरत महिलाओं की मांगों को शीघ्र पूरा किए जाने का जिला अधिकारी को पत्र सौंपा है। जिसमें कहा गया है कि न्याय न मिलने पर महिलाएं 29 नवंबर से नगर पालिका परिषद कार्यालय पर धरना दे रही हैं ।15 दिसंबर से वह भूख हड़ताल पर बैठेंगे उखलारसी श्मशान घाट को लेकर नगर पालिका पर चल रहा महिलाओं का धरना भूख हड़ताल में बदल जाएगा पत्र में कहा गया है कि 3 जनवरी 2021 को परिवारों के 25 सदस्य उस समय जब वह एक व्यक्ति का अंतिम संस्कार कराने श्मशान घाट गए थे ।और नगर पालिका द्वारा नवनिर्मित बरांडे की छत उनके ऊपर गिर गई। जिससे 25 लोगों की जान चली गई तथा इतने ही लोग घायल हुए थे
प्रशासन ने निर्माण कार्य में धांधली मानते हुए नगर पालिका परिषद के अधिशासी अधिकारी सहित 5 लोगों को आरोपी बनाते हुए गिरफ्तार किया था। तथा मौके पर ही अधिकारियों ने जिन परिवारों के सदस्यों की मृत्यु हुई थी उन्हें आर्थिक सहायता, बच्चों की शिक्षा, सरकारी नौकरी, मकान, दोषियों को चिन्हित कर दंड दिलाने का वादा किया था। लेकिन अभी तक पीड़ित परिवारों को 10 लाख रुपए आर्थिक सहायता के अलावा आवास नौकरी बच्चों की उच्च शिक्षा घायलों का इलाज लिए प्रबंध। तथा इतनी मौतों के लिए कौन कौन जिम्मेदार हैं यह भी उन्हें पता नहीं चल रहा लेकिन अभी तक सरकार की ओर से कोई सहानुभूति पूर्वक कदम नहीं उठाया जिसके कारण उनके परिवारों की स्थिति बिगड़ती जा रही है और न्याय में भी देरी हो रही है। महिलाओं ने कहा है कि वह अपनी मांगों को लेकर जनप्रतिनिधियों अधिकारियों से कई बार मिल चुकी हैं। लेकिन किसी ने अभी तक कोई ठोस कदम नहीं उठाया इसीलिए उन्हें बच्चों सहित धरने पर बैठने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। न्याय के लिए जो भी करना पड़ेगा वह करेंगे ममता, निधि, नीलम, रजनी ,आदि शामिल रही। धरने पर मौजूद महिलाओं ने बताया कि वह क्षेत्र में भी लोगों से न्याय दिलाने के लिए अनुरोध कर रही है। महिलाओं का कहना है कि हमने सरकार से उसके अधिकारियों द्वारा किए गए वादों को पूरा करने के साथ ही दोषियों को सजा दिए जाने सहित कई मांगे रखी हैं। लेकिन सरकार के प्रतिनिधि अधिकारी उच्चाधिकारियों को सिर्फ नौकरी की मांग को लेकर धरने की सूचना दे रहे हैं ।हमारी मांगों में से सरकार अभी तक कोई भी पूरी नहीं कर सकी है। महिलाओं ने कहा है कि यह सत्य है कि उनके परिवारों के लालन पालन के लिए जितनी जरूरी उन्हें नौकरी की है। लेकिन दोषी चाहे कोई भी हो उन्हें सजा दिलाना भी हमारा कर्तव्य है। संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज प्रजापति ने बताया कि मुरादनगर गाजियाबाद तथा मेरठ की स्वयंसेवी संगठन जिलाधिकारी से मिलने वाले प्रतिनिधिमंडल में शामिल थी अन्य स्थानों के महिला मंडल भी इस मामले को लेकर पीड़ितों की आवाज उठाएंगे।
इस मौके पर सोनिया सिंह, शुभ लेस मलिक, संगीता , रामप्रीत जाटव, रेखा दक्ष प्रजापति, डॉ ज्योति, डॉक्टर ममता, मोनिका, पवन ,प्रीति, संजू ,पिंकी, मंजू प्रीति आदि मौजूद रहे।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close