Breaking Newsराजस्थानराष्ट्रीय

राजस्थान में मंहगाई की आड़ में पांच राज्यों की चुनावी रैली मंहगाई हटाओ

मुस्लिम महासभा के राष्ट्रीय सचिव एन डी कादरी ने बताया कि यह मंहगाई हटाओ के नाम से होने वाले पांच राज्यों चुनावी प्रचार का माध्यम रहा ।
कादरी ने बताया कि बहुत अफसोस दर अफसोस होता है, राजस्थान में भारत में सबसे ज्यादा मंहगी बिजली है। बेरोजगारी बेतहाशा है। जब कौम के रहनुमा बनकर जयपुर सहित विभिन्न क्षेत्रों से आएं राजनेता (चापलूस, चाटूकारों) ने दो महीने से अधिक समय से मुख्यमंत्री निवास स्थान के चंद फासले पर बैठे अनशनकारी के धरना-प्रदर्शन स्थल पर जाने कि जहमत उठाई नहीं जबकि कुछ लोग तो एक रात पहले ही इस कड़ाके ठंड में पहले ही जयपुर आ गये थे किसी ने ऐसा नहीं किया करेंगे भी क्यों उनके आका जो उनसे नाराज़ हो जातें साथ ही जिन बड़ी कुर्सी की चाहत की उम्मीद में इस ठंड में जयपुर आन बेकार हों जाता । अब लगता नहीं प्रमाणित भी होगया की इन चाटुकारी करने वाले समाज के लोगों को क़ौम तथा प्रदेश के बेरोजगार तथा संवेदा कर्मचारियों की परेशानी से को लेना देना नहीं मैंने देखा है इसी आंदोलन के जुड़े कुछ लोग समाज में उनके साथ खड़े होकर कहते रहते हैं कौम के लिए इनसे बेहतर काम कोई नहीं कर सकता यह फलां मंत्री इनकी बात को डिटो करता है। इस रैली के माध्यम से उनके पास भी सही ग़लत का सन्देश पहुंच जाना चाहिए ।
रैली में राहुल गांधी का भाषण भी शोसल मिडिया पर सुना वह अखबार में पढ़ा वह भी कुछ अलग संदेश देकर गए हैं, वह भी जातीय राजनीति कर गए सिर्फ समझने की जरूरत है।
कुछ बड़े राजनेता और उसके चाहने वाले शोसल मिडिया पर बड़ी तादाद में फोटो पोस्ट डालकर कर क्या संदेश देना चाहते हैं। आपने कांग्रेस के आज कि तारीख में सर्वेसर्वा सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा जयपुर आएं उनसे बेरोजगारी तथा इस ठिठुरने भरी ठंड में छोटे छोटे बच्चों के साथ अनशन, धरना स्थल पर बैठे लोगों के लिए क्या बात की तथा क्या जबाव मिला आप लोगों में इतनी हिम्मत ही नहीं की आप उनके सामने मुंह खोल सके। फिर क्यों शोसल मिडिया पर इस तरह के अधिक से अधिक फोटो पोस्ट पोस्टर डालने का कम्पिटीशन में लगे रहते ।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close