Breaking Newsराष्ट्रीय

बेनाम स्वंतत्रता सेनानी नचिकेता की स्पेशल स्क्रीनिंग

अपना सबकुछ लुटाने वाले लाखों सेनानीयों को एक परिवार ने अंधेरे में रखा : बॉबी वत्स

करण समर्थ – आयएनएन भारत मुंबई
आजादी के मतवाले अपनी धुन के इतने पक्के थे, कि उन्हें अपनी जान-माल की परवाह भी नही थी और आखिरकार उन्होंने अंग्रेजों को घुटने टेकने और भारत छोड़ने को मजबूर कर दिया। सामाजिक दृष्टिकोण से यह फ़िल्म दर्शकों को कहीं न कहीं छुएगी। इसे आप एक भावनात्मक नाटक भी कह सकते हैं। क्योंकि यह एक ऐसे क्रांतिकारी की कहानी है, जिन मे अपने देश के प्रति कठोर भावनाओं को देखने को मिलते हैं। हिन्दुस्तानियों के सहनशीलता, उनके विचार, उनके मातृभूमी के प्रेम को दर्शाती है, ऐसा लघु फिल्म के लेखक तथा निर्देशक बॉबी वत्स ने कहा।

हांल ही में मुम्बई के सनी सुपर साउंड स्टुडियो में एक्टर, लेखक और निर्देशक बॉबी वत्स की अवार्ड विनिंग शार्ट फ़िल्म नचिकेता, की एक विशेष स्क्रीनिंग रखी गई, जिसमें संगीतकार दिलीप सेन, एक्ट्रेस तृष्णा प्रीतम, आरती नागपाल, अनाया सोनी, एक्ट्रेस तथा निर्देशक निधी नौटियाल, अमरीका से अल्का भटनागर, अदिती समर्थ, उद्योगपती वसंत भंडारी, फिल्म समीक्षक तथा ईफ्फ समारोह आयोजक करण समर्थ, फिल्म निर्माता कांचन समर्थ तथा फिल्म फोटोग्राफर रमाकांत मुंडे सहित कई फिल्मी हस्तियों तथा मीडिया ने बड़ी संख्या में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई।

उपस्थित मेहमानों ने इस शार्ट फ़िल्म को बेहद पसन्द किया और बॉबी वत्स के बहुआयामी काम की सराहना की।

इस फिल्म के बारे में सुप्रसिद्ध संगीतकार दिलीप सेन ने कहां कि, बॉबी की इस फ़िल्म की कहानी, मेकिंग और कलाकारों की अदाकारी मुझे खूब पसन्द आई। मात्र एक लघु फिल्म मे आप बड़े फिल्म जैसे दर्शकों को पेश कर सकते हैं यह इसकी मिसाल है।

तो जाने-मानी ऎक्ट्रेस आरती नागपाल ने कहा कि, मैं भी स्वतंत्रता सेनानी के परिवार से हूं, मेरे नानाजी स्वंतत्रता सेनानी थे । स्वतंत्रता की लड़ाई के समय के भारतीय समाज, संस्कृति और लोग कैसे थे, स्वतंत्रता संग्राम में जो लोग शामिल हुए थे, उनकी मानसिकता क्या थी,ऐसी बातों को नचिकेता शार्ट फ़िल्म में बॉबी वत्स ने बखुबी दर्शाया है।

इस फिल्म के विषय में बॉबी वत्स ने आगे बताया कि, यह लघु फ़िल्म उन स्वतंत्रता सेनानियों पर आधारित है, जिन्होंने अपना सबकुछ लुटाकर भी जो आजतक बेनाम रह गए। नचिकेता, एक ऐसे क्रांतिकारी की कहानी है, जिसे ब्रिटिशों ने पकड़ा, उसे यातनाएं दी लेकिन कहीं भी उसका समर्पण दर्ज़ नहीं हुआ । यह उस समयकाल की कहानी है, जब हमारा देश स्वतंत्र होने वाला था।‌ लेकिन हमारे देशवासियों ने ब्रिटिश राज को तोड़ दिया था, ऐसी कई चीजें इसमे दिखाई गई हैं।

तो जाने-मानी एक्ट्रेस तृष्णा प्रीतम ने कहा कि, मुझे पता चला है कि बॉबी वत्स की इस नचिकेता फ़िल्म को कई बड़े नेशनल और इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल्स में दिखाया गया है। जहां इसकी तारीफ हों चुकी है। और यह बहुत अच्छी बात है इसे लंदन सहित कई फ़िल्म महोत्सवों में अवार्ड भी प्राप्त हुए हैं।

हिंदी धारावाहिकों की जानी-मानी अभिनेत्री अनाया सोनी ने क्रांतिकारी बॉबी वत्स के पत्नी की भूमिका निभाई हैं। इसमे स्कॉट नॉक्स, गैरी जैसे ब्रिटिश कलाकार भी अभिनय किया है ।

नचिकेता, यह एक थ्रिलर लघु फिल्म है, जो क्रिएटिव कर्मा के बैनर तले बनी है। नचिकेता को देखने वालों ने खूब पसन्द किया है।

इस फ़िल्म के लेखक निर्देशक तथा अभिनेता बॉबी वत्स ने अंत में कहा कि, मेरा यह मानना है कि, जैसे मैंने गोवा फ़िल्म महोत्सव सहित दुनिया भर के कुछ फ़िल्म फेस्टिवल्स अटेंड किए हैं, उसी से सिनेमा को और करीब से समझा और जाना है। कई अंतरराष्ट्रीय फिल्में देखी, अंतरराष्ट्रीय सतह के फ़िल्म मेकर्स को मिला हूँ, उन तमाम अनुभवों से फिल्म निर्माण में बहुत फर्क पड़ता है। मुझे विश्वास है, नचिकेता फ़िल्म दर्शकों में देशभक्ति की भावना भी जगाएंगी और मै निकट भविष्य में ऐसे विषय पर फीचर फिल्म बनाने का प्रयास करुंगा। (करण समर्थ – आयएनएन भारत मुंबई)

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close