Breaking Newsउत्तर प्रदेशराष्ट्रीय

गुरु तेग बहादुर जी के प्रसंग से समझाया कि वक़्त के मौजूदा समरथ गुरु ही होते हैं मददगार

सन्त मत की शिक्षाओं को समझ कर अमल में लाने की है जरूरत, इस समय के समरथ गुरु को खोजो

बाबा जयगुरुदेव जी के आध्यात्मिक उत्तराधिकारी, केवल किस्से-कहानियों को पढ़ने तक ही सीमित न रहने और उनके पीछे छुपे गहरे सच्चे अर्थ को बता-समझाकर जीवों को अपने आत्म कल्याण के लिए मार्ग दर्शन देने वाले इस समय के मनुष्य शरीर में मौजूद पूरे समरथ सन्त सतगुरु उज्जैन वाले बाबा उमाकान्त जी महाराज ने 19 नवंबर 2021 को जयपुर स्थित सुरति शब्द योग साधना धाम में कार्तिक पूर्णिमा को दिए संदेश में गुरु तेग बहादुर जी के प्रसंग से गुरुमुख बनने का संदेश दिया।

 

आध्यात्मिक उत्तराधिकारी तेग बहादुर जी की कहानी

गुरु हरकिशन पंजाब में हुए। जब उनको शरीर छोड़ना हुआ तो सब लोगों ने पूछा अब हम लोगों की संभाल कौन करेगा? परमार्थी रास्ते पर कौन चलाएगा? नामदान कौन देगा? तब उन्होंने कहा की बाबा बकाला गांव में वह मिलेगा, संभालेगा, उपदेश करेगा। हरकिशन जी के मुरीद शिष्य थे मक्खन शाह। व्यापार करने के लिए विदेश गए हुए थे। वहां से बड़े जहाज में माल लेकर आ रहे थे। तूफान में जहाज खूब डगमगाया। जब लगा कि अब डूब जाएगा तो गुरु को याद किया कहा कोई अब आपके अलावा बचाने वाला नहीं है, आप ही बचाओगे तो जान-माल दोनों बचेगा। जिसका कोई सहारा नहीं होता उसका वह मालिक होता है। परमात्मा से वक्त के सतगुरु जुड़े हुए होते हैं।
हरकिशन महाराज के बहुत शिष्य थे लेकिन उन्होंने वो रूहानी दौलत तेग बहादुर जी दिया था। जब अधिकार दूसरे को दे देते हैं तो पावर भी उनको दे देते हैं। जब मक्खन शाह वक्त के गुरु को याद किए तब सुनवाई हो गयी। कहते हैं नींबू को जब निचोड़ते हैं तो रस निकलता है। कुछ लोगों का ऐसा ही स्वाभाव होता है। जब जान के ऊपर आफत आती है तब भगवान को याद करते हैं, तब चाहे धन-दौलत सब कुछ चली जाए। तो बोले अगर जान-माल बच गया तो 500 अशर्फीयां (सोने का सिक्का) गुरु जी को भेंट करेंगे। तो दया हो गई जान बच गई। विश्वास तो हो ही गया था कि गुरु जी ने ही बचाया है तो चलो उनका कर्जा 500 अशर्फी का, दे आवे।

गुरु से कपट, मित्र से चोरी।
या हो निर्धन या हो कोढ़ी।।
संकल्प बनाया, पहुंचे तो पता चला कि गुरुजी शरीर छोड़ दिए। सोचे ये कर्जा किसको कहां अदा करें? तो कहा बकाला गांव में मिलेगा। नाम तो किसी का लिया नहीं था। तो कुछ मनमुखी शिष्यों ने अपनी अपनी दुकान लगा दिया। 22 लोग हो गए। सब अपने को उत्तराधिकारी घोषित कर दिए।

मन मुखी कौन होते हैं?

मन मुखी वो जो मन के अनुसार ही चलता है। मन का ही गुलाम हो जाता है। महात्माओं के पास कई तरह के जीव आते हैं। कुछ अच्छे भाव वाले कि नाम दान लेकर भजन करेंगे, जो समरथ गुरु कहेंगे, पालन करेंगे। सेवा भी करते हैं तन, मन, धन से कि बढ़ जाएगा। मेहनत कम करनी पड़ेगी क्योंकि गुरु किसी का रखते नहीं हैं। एक का 10 गुना करके वापस कर देते हैं। किसी को जरूरत पड़ी तो गुरु महाराज ने 50 गुना भी करके दिया।

जब वहां पहुंचे तो बोले के उत्तराधिकारी तो एक ही होता है। हमको तो आध्यात्मिक उत्तराधिकारी के पास जाना है। तो फिर सोचा कि चलो थोड़ा-थोड़ा सबको दे दे। जो हम को बचाया होगा वह कुछ न कुछ बोलेगा, चर्चा करेगा। अब मन बदल गया, 500 से 5 पर आ गया। दिया तो सब लोग आशीर्वाद देते चले गए। कोई बोला नहीं की हमने आपकी जान बचाई थी। पूछा की कोई और महात्मा है जो ध्यान, भजन, सुमिरन करता हो? तो कहा तेगा है, चुपचाप बैठा रहता है, खूब भजन करता है। तो उनको भी पांच अशर्फी दिया। देखा तो कहा बाकी कहां गया? कपड़े को पीठ से हटाया और दिखाया कि देख कितने कीले के निशान बने हुए हैं तेरा जहाज उठाने में, कितनी मेहनत पड़ी और तू वादा को भूल गया, मन के कहने में आ गया। क्या गुरु महाराज ने यही सिखाया था कि मन मुखी बन जाओ, गुरु मुखता छोड़ दो, जो गुरु कहे उसको न करो? तो ऐसे यह मन धोखा दे देता है।

इससे क्या शिक्षा मिलती है

गुरु के पास तो कहते हैं भजन करेंगे, नाम दान दे दो लेकिन फिर खानपान, विचार, भावना गलत हो जाती है और काम क्रोध की अग्नि में साधक जलने लग जाता है। इसलिए गुरुमुख बनो।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close