Breaking NewsDelhiउत्तर प्रदेशराष्ट्रीयहमारा गाजियाबाद

जाम से त्रस्त गाजियाबाद: लोग हो रहे परेशान

गाजियाबाद पूरी तरह जाम
गाजियाबाद के घंटाघर से नए बस अड्डे तक और गौशाला फाटक से जस्सीपुरा तक, बुरी तरह ट्रैफिक जाम लगा रहता है।यह जाम शर्दी का मौसम शुरू से लग्न शुरू हो जाता है.लोग घंटों जाम में फसे रहे हैं. लोग ड्यूटी जाने के लिए लगभग 2 से 3 पहले निकलता है तब जाकर ऑफिस पहुंच पता है. इन सब का कारण है। ऑटो और इलेक्ट्रिक रिक्शा के चालक। बड़ी बात यह है कि गाजियाबाद पुलिस नदारद है। जिसके चलते हजारों वाहन ट्रैफिक जाम में फंसे हुए हैं। यहां लोगों का कहना है कि सुबह और शाम के वक्त पीक ऑवर्स में यह रोजमर्रा की परेशानी है। जिस पर गाजियाबाद ट्रैफिक पुलिस बिल्कुल भी ध्यान नहीं दे रही है। रोजाना सुबह-शाम ऑफिस टाइम में हजारों लोगों को इस परेशानी से दो-चार होना पड़ता है।

गाजियाबाद में प्रवेश करने वाले सारे रास्तों पर ऑटो, और इलेक्ट्रिक रिक्शा वालों ने कब्जा कर रखा है। लंबी-लंबी लाइन ऑटो वालों इलेक्ट्रिक रिक्शा वालों ने नेशनल हाईवे पर लगा रखी हैं। सभी तिराहा और चौराहों पर बेतरतीब ऑटो खड़े हुए हैं। छिजारसी-जल निगम कट, सिद्धार्थ विहार रोड, विजय नगर रोड, लाल कुआं से पहले इंडस्ट्रियल एरिया, लाल कुआं और राजनगर की ओर जाने वाले टी-पॉइंट पर सैकड़ों ऑटो वालों ने कब्जा कर रखा है। जिसके चलते नेशनल हाईवे पर लंबा ट्रैफिक जाम लग रहा है। यहां के लोगों का कहना है कि यह रोजमर्रा की समस्या है। रात 10:00 बजे तक नेशनल हाईवे पर दिल्ली से गाजियाबाद की ओर जाने वाले वाहन चालकों को घंटों जाम में फंसे रहना पड़ता है।

सैकड़ों करोड रुपए खर्च करने का कोई फायदा नहीं
गाजियाबाद शहर को ट्रैफिक जाम से मुक्ति दिलाने के लिए केंद्र सरकार ने सैकड़ों करोड़ रुपए खर्च करके नई सड़क बनाई है, लेकिन बेतरतीब ट्रैफिक, ट्रैफिक पुलिस की उदासीनता और ऑटो चालकों की मनमानी इस नए नेशनल हाईवे पर भारी पड़ रही है। स्थानीय निवासियों का कहना है कि सैकड़ों करोड़ रुपए बिना वजह इस रास्ते के निर्माण में डूब गए हैं। इतना ट्रैफिक जाम तो पुराने नेशनल हाईवे पर भी नहीं लगता था। दरअसल, नए नेशनल हाईवे पर ट्रैफिक मैनेजमेंट सही नहीं है

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close