Breaking Newsउत्तर प्रदेशमंथनराष्ट्रीयहमारा गाजियाबाद

राजधानी दिल्ली में संगठित गिरोह चला रहे हैं जिस्मफरोशी का कारोबार

टूरिस्ट वीजा पर आई विदेशी युवतियां भी जिस्म के कारोबार में हैं संलिप्त,कई सफेदपोश दे रहे हैं जिस्मफरोशी और ड्रग्स के काले धंधे को अपना संरक्षण

देश की राजधानी जो हर तरह से सुरक्षित होनी चाहिए वहां हर तरह का अपराध जड़ जमा ता जा रहा है। इन्हीं अपराधों में शामिल है जिस्मफरोशी का धंधा जिस पर दिल्ली पुलिस रोक लगाने में नाकामयाब साबित हो रही है। दिल्ली महिला आयोग ने राजधानी में स्पा सेंटर की आड़ में चल रहे जिस्मफरोशी के धंधे का भंडाफोड़ किया है। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल का दावा है कि जस्ट डायल पर नंबर डायल करते ही दिल्ली पुलिस की पोल खुल गई है। जस्ट डायल पर कॉल के 24 घंटे में व्हाट्सएप पर लगभग डेढ़ सौ लड़कियों की तस्वीरें और सेक्स सर्विस की रेट लिस्ट खुले तौर पर सामने आ गई।
राजधानी में स्पा सेंटर की आड़ में फल-फूल रही जिस्मफरोशी के धंधे को अलग-अलग रूप दे दिए गए हैं। मसाज सर्विस के अलावा जिस्मफरोशी के धंधे को दिल्ली में इस तरह चलाया जा रहा है कि इसकी जड़ें एनसीआर के गाजियाबाद, फरीदाबाद, गुड़गांव और मेरठ तक फैली हुई है। देश की राजधानी दिल्ली से सटे गाजियाबाद कहीं के इलाके में जिस्मफरोशी करने वाले गिरोह बड़ी आसानी से अपना ठिकाना बना लेते हैं और यहीं से अपने धंधे को परवान चढ़ा रहे हैं।
आखिर जस्ट डायल कि इस धंधे में क्या भूमिका है इस पर दिल्ली महिला आयोग के अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने अपने ट्वीट में कहा है कि जस्ट डायल से नंबर लेकर स्पा मसाज के लिए फेक इंक्वायरी करते ही उनके व्हाट्सएप पर 50 से अधिक मैसेज आ गए जिनमें जिस्मफरोशी के धंधे से जुड़ी युवतियों की तस्वीरों के साथ उनके रेट भी लिखे गए थे। सबसे पहले पूछा गया कि आपको क्या चाहिए मसाज या सर्विस। सर्विस बताते ही तमाम महिलाओं की तस्वीरें भेज दी गई और अलग-अलग सर्विस के रेट भी बता दिए गए। यह रेट ₹2000 से लेकर ₹7000 तक हैं। जानकारों का कहना है कि कई मामलों में रेट इससे भी बहुत अधिक होते हैं जिन सब की जानकारी दिल्ली पुलिस को भी है।
जिस्मफरोशी के धंधे को बढ़ावा देने में कथित भूमिका को लेकर दिल्ली महिला आयोग ने जस्ट डायल को नोटिस जारी किया है। आयोग ने दिल्ली एनसीआर में चल रहे सभी स्पा सेंटर ओं की सूची मांगी है। नोट कहा गया है कि 24 घंटे के भीतर अलग-अलग नंबरों से कुल 32 व्हाट्सएप मैसेज और 15 काल मिली। लगभग हर मैसेज में लड़कियों की तस्वीरें और उनकी तरह लिखी हुई थी। आयोग ने डायल मैनेजमेंट से पूछा है कि उनके यहां लिस्टेड स्पा सेंटरों की बैकग्राउंड जांचने के लिए कंपनी की पॉलिसी क्या है। राजधानी दिल्ली में जिस्मफरोशी का धंधा संगठित गिरोह चला रहे हैं। इस धंधे में सबसे अधिक बदनाम नाम सोनू पंजाबन का रहा है जो इन दिनों जेल के सीखचों के अंदर है।
राजधानी दिल्ली में पिछले दिनों एक गिरोह का भंडाफोड़ दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने किया था। पूछताछ में जानकारी मिली थी कि इस गिरोह को जेल में बैठी सोनू पंजाबन चला रही थी। सोनू पंजाबन के अलावा करोल बाग क्षेत्र के आनंद पर्वत से इस गिरोह का गहरा नाता रहा है। एक बड़े होटल का संचालक होटल की आड़ में जिस्मफरोशी का धंधा कराता था जो बाद में बदमाशों की आपसी रंजिश में मारा गया।

 


पहाड़गंज क्षेत्र में बने छोटे-छोटे होटल भी जिस्मफरोशी के धंधे के लिए बदनाम रहे हैं। इन होटलों से ड्रग्स का कारोबार भी होता रहा है। इन होटलों में विदेशी नागरिकों के अड्डे भी बने हुए हैं। विखंडित सोवियत संघ के राज्य कजाखस्तान और उज्बेकिस्तान से आई अनेक युवतियां राजधानी दिल्ली में टूरिस्ट वीजा के नाम पर आती है और यहां जिस्मफरोशी के धंधे से जुड़ जाती हैं। दिल्ली पुलिस के एक उच्चाधिकारी का कहना है कि इन देशों में बेरोजगारी अपने चरम पर है जिस कारण वहां से आइए युवतियां जिस्मफरोशी के धंधे से जुड़ जाती हैं। कई बार उज़्बेकिस्तान और कजाकिस्तान की युवतियों को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार भी किया है। दक्षिण अफ्रीका के कई देशों के युवक युवतियां भी राजधानी दिल्ली में ड्रग्स और जिस्मफरोशी के धंधे से जुड़े हुए हैं। इन देशों के जो नागरिक राजधानी दिल्ली में है उनके आपस में भी कई बार खूनी संघर्ष हुआ है तो कई बार यह क्षेत्रीय नागरिकों से भी खूनी संघर्ष में लिप्त पाए गए हैं। राजधानी दिल्ली की पुलिस के काफी सख्ती बरतने के बावजूद ड्रग्स और जिस्मफरोशी का धंधा खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। जानकारों का कहना है कि इन दोनों धंधों के पीछे कई मजबूत शख्सियत हैं जिनका राजनीति से लेकर पुलिस तक अंदर तक संबंध है। जानकारों का कहना है कि जब तक इन दोनों धंधों को शह देने वाले इन बड़े लोगों पर कार्रवाई नहीं होगी तब तक इस धंधे को जड़ से नहीं मिटाया जा सकेगा।

Show More

Related Articles

Close