Breaking News

बसपा व सपा के लिए घातक होगी आजाद समाज पार्टी

जाटव व मुस्लिम समाज में आसपा लगा रही है सेंध

गाजियाबाद। नवगठित आजाद समाज पार्टी जिस तरह मुस्लिम व दलित समाज में पैठ बना रही है उसे देखते हुए बसपा व सपा दोनों के लिए जिले में भारी राजनीतिक नुकसान की संभावना बनती जा रही हैं।
गौरतलब है कि सपा का मुख्य आधार यादव वोटों के अलावा मुस्लिम समाज रहा है। यादव समाज आज भी सपा के साथ है जबकि मुस्लिम मतदाताओं में पिछले दो चुनाव से बसपा सेंध लगा रही है। बसपा की भी हालत कुछ ऐसी ही हो गई है। बसपा का आधार वोट बैंक जाटव समाज के अलावा पूर्वांचल की कई दलित जातियां थी जिन्हें कांशीराम ने बसपा के साथ जोडा था। आज पूर्वांचल की गैर दलित जाति बसपा का साथ छोड़ चुकी हैं। जाटव समाज में नवगठित आजाद समाज पार्टी के अध्यक्ष चन्द्रशेखर आजाद ने भारी सेंध लगाई है। पिछले दो विधानसभा चुनाव में पश्चिम उत्तर प्रदेश में मुस्लिम समाज बसपा के साथ आया था। अब मुस्लिम समाज के भी हालात बदल रहे हैं। कई प्रमुख मुस्लिम नेता बसपा का साथ छोड़ चुके हैं। मुरादनगर के पूर्व विधायक वहाब चौधरी, लोनी के पूर्व विधायक जाकिर अली व धौलाना विधायक असलम अली आज बसपा मे नहीं हैं। बसपा में जो मुस्लिम नेता हैं भी उनका कहीं जनाधार नहीं है। आसपा अध्यक्ष चन्द्रशेखर आजाद ने गाजियाबाद के मुस्लिम समाज में भी सेंध लगाकर सपा व बसपा के सामने कठिन चुनौती खडी कर दी है।
बदले हालात में सपा व बसपा दोनों के सामने ऐडवोकेट चन्द्रशेखर आजाद ने बडी चुनौती खडी कर दी है। बसपा के कई प्रमुख नेता पहले ही पार्टी छोडकर आसपा में चले गए हैं। प्रमुख जाट नेता सत्यपाल चौधरी, प्यारे लाल जाटव, पूर्व विधायक वहाब चौधरी के भाई निजाम चौधरी व प्रमुख समाज सेवी व पत्रकार इमरान खान जिले मे पार्टी के प्रमुख आधार हैं। इसके अलावा कई मुस्लिम नेता किसी भी समय आसपा का दामन था म सकते हैं। सत्यपाल चौधरी व इमरान खान दोनों ही आसपा के राजस्थान प्रभारी भी हैं।
जिस तरह आसपा जाटव व मुस्लिम समाज में अपनी सेंध लगा रही है उससे सपा व बसपा दोनों को ही विधानसभा चुनाव में भारी नुकसान होने से मना नहीं किया जा सकता।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close