HOMEजरायमराष्ट्रीय

आश्रम में लूटता रहा अस्मत और महिलाएं चुप रहीं:तपस्वी बाबा पहले बोला- मैं भगवान हूं, सबकुछ मुझे दे दो; इसके बाद भांग की गोली खिलाई और दुष्कर्म किया

बाबा ने खुद को भगवान बताकर आश्रम में आने वाली महिलाओं के साथ दुष्कर्म किया। जयपुर के भांकरोटा थाने में बाबा के खिलाफ 4 महिलाओं ने दुष्कर्म के आरोप लगाए हैं।

image_pdf

फलाहारी बाबा, आसाराम के बाद एक और कथित तपस्वी बाबा योगेंद्र मेहता का नाम दुष्कर्म के मामले में सामने आया है। बाबा ने खुद को भगवान बताकर आश्रम में आने वाली महिलाओं के साथ दुष्कर्म किया। जयपुर के भांकरोटा थाने में बाबा के खिलाफ 4 महिलाओं ने दुष्कर्म के आरोप लगाए हैं। बाबा की सेविका पर भी सहयोग करने के आरोप हैं। भांकरोटा थानाधिकारी मुकेश चौधरी ने बताया कि मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच की जा रही है।

पीड़ित महिला ने बताया कि उसका विवाह 1998 में जयपुर के बिंदायका इंडस्ट्रियल एरिया में हुआ था। विवाहिता ने बताया कि ससुराल के कुल देवता तपस्वी बाबा हैं। बाबा का आश्रम मुकुंदपुरा में है। बाबा के आश्रम में उनके परिवार का 25 सालों से आना-जाना था। वहां पर धीरे-धीरे बाबा की गद्दी को योगेंद्र मेहता ने संभाल लिया और तपस्वी बाबा का आश्रम खोल लिया। योगेंद्र मेहता का आश्रम मुकुंदपुरा के अलावा रातल्या सीकर रोड और दिल्ली रोड पर है।

तीन-चार दिन रुक कर आश्रम में करती सेवा

योगेंद्र मेहता खुद को तपस्वी बाबा बताने लग गया। पीड़ित महिला का परिवार भी आश्रम में जाया करता था। उसके पति भी अक्सर बाबा के पास आश्रम में जाते थे और सत्संग सुना करते थे। बाबा ने उसके पति को कहा कि पूरे परिवार को आश्रम में लेकर आया करो। इसके बाद वह भी पति के साथ आश्रम में जाने लग गई। विवाहिता ने बताया कि आश्रम में वह पांच-छह महीने के अंतराल में जाती थी। तीन-चार दिन रुक कर आश्रम में सेवा करती थी। कुछ समय तो आश्रम में ठीक चलता रहा, लेकिन बाद में गड़बड़ होने लगी।

प्रसाद के रूप में भांग की गोली खिलाई

बाबा महिलाओं को आश्रम में बुलाते और कहते कि मैं ही भगवान हूं। तुम मेरी सेवा करो। सब कुछ गुरु को समर्पण कर दो। विवाहिता ने बताया कि आश्रम में रोजाना रात को आठ से दस महिलाएं रुकती थीं। विवाहिता का आरोप है कि उसे एक दिन रात को बाबा ने छत के ऊपर बने कमरे में बुलाया। कमरे में उसे एक गोली दी और कहा कि यह प्रसाद है। बाबा ने कहा कि ईश्वर का ध्यान करो और समर्पण का भाव रख सब कुछ दे दो। गोली खाते ही उसे कुछ नशा होने लग गया। तब बाबा ने दुष्कर्म किया। छह महीने के बाद आश्रम में गई तो बाबा ने बुलाकर दोबारा से दुष्कर्म किया। विरोध करने पर बर्बाद करने की धमकी दी।

बेटी को भेजने लगे तो हुआ खुलासा

तीन दिन पहले उसके पति 20 साल की बेटी को आश्रम में ले जाने लगे। विवाहिता ने बेटी को आश्रम में ले जाने से मना कर दिया। पति ने उससे आश्रम में नहीं ले जाने की बात पूछी। विवाहिता ने तपस्वी बाबा की पूरी करतूत बता दी। परिवार में बात करने पर पता लगा कि उसकी भाभी व जेठानी से भी बाबा ने डरा-धमका कर दुष्कर्म किया। उसके पति व भाई ने बाबा को फोन कर दुष्कर्म के बारे में पूछा तो बाबा ने उन्हें बर्बाद करने की धमकी दे दी।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close